health

Breaking News

जौनपुर की इत्र,इमरती व् ईमानदारी की दी जाती है मिसाल-सीएम योगी 24UPNEWS.COM पर

जानिये जौनपुर के मौजूदा सांसद के०पी० सिंह के फर्स से अर्स तक का सफर,पार्टी ने एक साधारण छवि वाले को बनाया आम से ख़ास यानि सांसद जानिए सिर्फ 24UPNEWS.COM

जौनपुर- 16वी  लोकसभा के चुनाव 2014 में जब कृष्ण प्रताप का नाम आया तो जिले की राजनीति में नया नाम होने के कारण स्थानीय नेता काफी निराश हुए थे लेकिन 2014 के चुनाव में मोदी मैजिक आम जनता के सर पर चढकर बोल रहा था इसी का परिणाम रहा की केपी सिंह पिता ने जो राजनीति में जो पार्टी के बलिदान दिया था उसी के सहारे केपी के टिकट पर मुहर लग गयी थी, और 2019 के चुनाव में अगर पूर्व सांसद धनंजय सिंह भासपा व निषाद राज पार्टी के सहारे पार्टी से टिकट लेने की जुगत में लगे रहे लेकिन वो मौजूदा सांसद के टिकट काटने में नाकाम रहे और पुन से पार्टी ने उनके इमानदारी व् स्वच्छ छवि के कारण दुबारा पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने उन पर दाव खेला है .
बता दें  जन्म 9 फरवरी 1977 को श्री उमानाथ सिंह के सुपुत्र के रूप में जन्मे थे व् माता का नाम  सुशीला सिंह , उनका जन्म उत्तर प्रदेश के जौनपुर के महरुपुर में हुआ था। उनकी शैक्षणिक योग्यता में पीएच.डी. और उन्होंने अपनी शिक्षा T.D.P.G. कॉलेज, जौनपुर और पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर, उत्तर प्रदेश। उन्होंने 23 नवंबर 2005 को रीना सिंह से शादी की। उन्होंने अपने पिता स्वर्गीय उमा नाथ सिंह के दुखद निधन के बाद 15 साल की उम्र में आरएसएस कार्यकर्ता के रूप में अपना सामाजिक कैरियर शुरू किया, जो कल्याण सिंह के नेतृत्व वाले उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री थे। उमा नाथ सिंह का निधन 13 सितंबर 1993 को पुलिस कोतवाली, जौनपुर में अचानक दिल का दौरा पड़ने के कारण हुआ, 1993 में असामाजिक तत्व के साथ संघर्ष के बाद, जो समाजवादी-सरकार की सरकार के मोहल्ला बूल नामक आंदोलन का हिस्सा थे। इससे पहले उमानाथ सिंह चार बार विधायक जनसंघ से संबंधित थे और जौनपुर के बयालसी विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी के थे। वह पहली बार 1967 में बहुत कम उम्र में चुने गए थे और कांग्रेस के प्रतिष्ठित नेता लाल बहादुर सिंह को हराया था। केपी ने टीडी कॉलेज कैंपस में आरएसएस का एक अभियान शुरू किया और अपने पिता के नाम पर विभिन्न सामाजिक सेवा कार्यक्रम जैसे नेत्र शल्य चिकित्सा शिविर, नियमित रक्तदान शिविर, आर्थिक रूप से पिछड़े समुदाय के लिए कोचिंग कक्षाएं शुरू कीं।
कृष्ण प्रताप सिंह का जन्म 9 फरवरी 1977 को श्री उमानाथ सिंह और श्रीमती के यहाँ हुआ था। सुशीला सिंह उनका जन्म उत्तर प्रदेश के जौनपुर में हुआ था। उनकी शैक्षणिक योग्यता में पीएच.डी. और उन्होंने अपनी शिक्षा T.D.P.G. कॉलेज, जौनपुर और पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर, उत्तर प्रदेश। उन्होंने 23 नवंबर 2005 को रीना सिंह से शादी की। उन्होंने अपने पिता स्वर्गीय उमा नाथ सिंह के दुखद निधन के बाद 15 साल की उम्र में आरएसएस कार्यकर्ता के रूप में अपना सामाजिक कैरियर शुरू किया, जो कल्याण सिंह के नेतृत्व वाले उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री थे। उमा नाथ सिंह का निधन 13 सितंबर 1993 को पुलिस कोतवाली, जौनपुर में अचानक दिल का दौरा पड़ने के कारण हुआ, 1993 में असामाजिक तत्व के साथ संघर्ष के बाद, जो समाजवादी-सरकार की सरकार के मोहल्ला बूल नामक आंदोलन का हिस्सा थे। इससे पहले उमानाथ सिंह चार बार विधायक जनसंघ से संबंधित थे और जौनपुर के बयालसी विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी के थे। वह पहली बार 1967 में बहुत कम उम्र में चुने गए थे और कांग्रेस के प्रतिष्ठित नेता लाल बहादुर सिंह को हराया था। केपी ने टीडी कॉलेज कैंपस में आरएसएस का एक अभियान शुरू किया और अपने पिता के नाम पर विभिन्न सामाजिक सेवा कार्यक्रम जैसे नेत्र शल्य चिकित्सा शिविर, नियमित रक्तदान शिविर, आर्थिक रूप से पिछड़े समुदाय के लिए कोचिंग कक्षाएं शुरू कीं।
 2014: 16 वीं लोक सभा 1 सितम्बर 2014 को चुना गया: सदस्य, रसायन और उर्वरक पर स्थायी समिति; सदस्य, परामर्शदात्री समिति, जल संसाधन मंत्रालय, नदी विकास और गंगा कायाकल्प.
जानिये जौनपुर के मौजूदा सांसद के०पी० सिंह के अर्श से फर्श तक का सफर,पार्टी ने एक साधारण छवि वाले को बनाया आम से ख़ास यानि सांसद जानिए सिर्फ 24UPNEWS.COM

जौनपुर लोकसभा का सर्वांगीण विकास करना ही मेरी प्राथमिकता- अशोक सिंह

जौनपुर लोकसभा का सर्वांगीण विकास करना ही  मेरी प्राथमिकता- अशोक सिंह
जौनपुर-निर्दल प्रत्याशी अशोक सिंह जौनपुर लोकसभा से निर्दल।प्रत्याशी है अपने विपक्षियों को कड़ी टक्कर दे रहे है तो देश मे।संपन्न होने जा रहे 17वीं लोकसभा के लिए  चुनाव को लेकर जौनपुर की राजनीतिक रंग धीरे-धीरे उभरने लगा है ..मुख्य रूप से सभी प्रत्याशियों के घोषणा के बाद अब प्रत्याशी को लेकर ऊहापोह की स्थिति अब स्पष्ट हो चुकी है ।जौनपुर में मुख्य रूप से तस्वीर लगभग साफ दिखाई दे रही हैं। जौनपुर संसदीय क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी निवर्तमान सांसद के पी सिंह व बहुजन समाज पार्टी समाजवादी पार्टी से गठबंधन के प्रत्याशी श्याम सिंह यादव व कांग्रेस के प्रत्याशी एवं निर्दल प्रत्याशी के रूप में समाजसेवी अशोक सिंह अपने अपने पक्ष में मतों के ध्रुवीकरण को लेकर अपने राजनीतिक आकाओं से  गुड़ा गणित कर अपनी-अपनी जीत हासिल करने में जुट गए हैं।जिसमे मुख्य रूप से भाजपा,  व निर्दल प्रत्याशी अशोक सिंह ,और गठबंधन के अलावा कांग्रेस भी मतो को प्रभावित कर रहे है।पर मुकाबला लगभग त्रिकोणीय बनने का अंदेशा है।क्योंकि निर्दल प्रत्याशी अशोक सिंह ने जौनपुर के विकास के नाम पर लोगो से कीमती मत मांग रहे है एक अनौपचारिक मुलाकात में निर्दल प्रत्याशी के रूप में चुनावी मैदान में उतरे समाजसेवी अशोक सिंह ने कहा कि भाजपा और गठबन्धन तुष्टिकरण की राजनीति करके मतो का विभाजन का खेल, खेल रही है।जब जब चुनाव हुआ हर बार जाति धर्म को भुनाने की कोशिश हुई है।उसी फार्मूला पर इस बार भी अपनाया जा रहा हैlll  जौनपुर संसदीय क्षेत्र के निर्दल प्रत्याशी अशोक सिंह  जौनपुर के विकास के नाम पर मत मांग रहे है और मतदाता विकास के नाम पर अपना रुझान खुलकर बता रहे है।  जौनपुर क्षेत्र के जौनपुर संसदीय क्षेत्र के मतदाता भी यह मन बना चुके हैं कि इस बार वे उसी प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करें करेंगे जो जनपद का सर्वाधिक विकास करें और उनके बीच हमेशा मौजूद रहे ऐसे में  मतदाता  चुनावी समर में उतरे  प्रत्याशियों में से ऐसे प्रत्याशियों के पक्ष में मतदान करने का मन बना रहे हैं  जो  वास्तव में जौनपुर मैं विकास कार्यों की गंगा बहा दे
इस बार का चुनाव मतदाता अगर विकास के नाम पर रुख करती है निश्चित रूप से इस बार बदलाव की बयार बह चुकी हैं जो कि विकास को लेकर चट्टी, चैराहा, चायपान की दुकान, गली, मोहल्ला पर चुनावी चर्चा जोर पकड़ती जा रही हैं कि जौनपुर के विकास की अलख अभी तक जगी नही है जो भी जीतकर जाता है फिर पांच साल बाद ही जनता की सुध लेता हैं परंतु निर्दल प्रत्याशी अशोक सिंह ने पूरे विशवास और दमखम के साथ विकास के नारा को बुलंद कर रखा है। अब देखना है कि जौनपुर सांसद क्षेत्र के मतदाता अपने क्षेत्र के सर्वांगीण विकास के लिए चुनावी मैदान में उतरे प्रत्याशियों में से किसको अपना सांसद निर्वाचित करते हैं..l

ईमानदारी की मिसाल है जौनपुर के सांसद के0पी0 सिंह-सीएम योगी आदित्यनाथ

जौनपुर की तीन चीजे प्रसिद्ध रही है इमरती इत्र और ईमानदारी। भाजपा आपको इन तीनो के साथ जोड़ रही है। सीएम ने कहाकि ईमानदारी की मिसाल है आपके सांसद के पी सिंह,स्वर्गीय उमानाथ सिंह की इस विरासत को आपके हवाले भाजपा ने किया है। जौनपुर के विकास में कोई बाधा नही आएगी ये संकल्प हम लोग ले रहे है।
 आगे बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंच से संबोधित करते हुए कहाकि मोदी जी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने के लिए जो उत्साह देखने को मिल रहा है उसका मैं स्वागत करता हु। पूरे देश मे एक आवाज है मोदी मोदी । सबकी एक ही तमन्ना है फिर एक बार मोदी सरकार। तीन सीटों पर चुनाव सम्पन्न हो गया है मतलब आधा चुनाव सम्पन्न हो गया है । हर ब्यक्ति ने एक लक्ष्य तय कर लिया है कि पीएम के रूप में सबकी पसन्द मोदी है। पांच वर्ष में मोदी ने एक भी दिन अपने लिए नही रखा चाहे दिन हो या रात देश के किसी कोने में हो देश के विकास के लिए गांव गरीब हर तबके तक योजनाओं का लाभ पहुचाने काम किया है। जो काम सपा बसपा कांग्रेस के लिए नामुकिन था वो काम भाजपा ने कर दिखाया। इस लिए देश मे एक नारा बना की नामुमकिन अब मुमकिन है क्योंकि मोदी है तो मुमकिन है। मोदी की सरकार ने आतंकवाद की नीति और काम करना शुरू किया एक बार फिर से मोदी जी को आने दीजिये आतंकवाद जड़ से भारत से समाप्त होगा। सपा बसपा में कौन ऐसा मंत्री था जिसपे भ्रस्टाचार का आरोप न लगा हो । जो लोग एल दूसरे के जान के प्यारे थे वो आज गले लग रहे है और गले लगाने का ढोंग कर रहे है । देखना चुनाव के बाद इन लोगो मे फिर मनमुटाव होने वाला है।
आज जब जौनपुर लोकसभा के प्रत्याशी के लिए अपील करने आया हु तो बस यही कहूंगा कि 27000 ग्रामीण आवास योजना में 10 हजार  शहरी क्षेत्र में आवास जौनपुर में दिया गया है। 2 लाख 9 हजार गैस कनेक्शन यहां दिया गया है। 3 लाख गरीबो को एक एक शौचालय दिया गया। 1 लाख 86 हजार से अधिक परिवारों को 5 लाख रुपये सालाना निशुल्क स्वास्थ्य बीमा देने का काम किया गया है। 4 लाख 39 हजार किसानों को 6 हजार सालाना मिलेंगे जिसमे ढाई लाख किसानों को दो हजार जा चुकी है।
एक तरफ विकास एक गरीब कल्याणकारी योजनाएं । अपराधियो के लिए संकल्प है कानून के हिसाब से राज चलेगा। कानून को कोई हाथ मे लेगा सरकार इसको बर्दास्त नही करेगी। अपराधी या तो जेल में रहेगे या राम नाम सत्य है।
सपा बसपा के पास विकास का एजेंडा नही है। सपा का एकसूत्रीय एजेंडा है ये लोग देश के विकास के सामने चुनोती बनना चाहते है। ऐसा गठबंधन जनता द्वारा ठगबंधन बना कर फेंक दिया जाता है।
कमल चुनाव चिन्ह पर पड़ने वाला एक एक वोट मोदी जी को पड़ने वाला वोट होगा।
सपा बसपा के लोग बिजली इस लिए नही देते थे क्योंकि प्रदेश के संसाधनों पर डकैती डालने का काम रात में करते थे।

इस चुनावी पर्ची ने मचा दिया जौनपुर की राजनिति में हड़कम्प,सीएमओ जौनपुर को आनन फानन में बुलाना पड़ा पीसी

जौनपुर में सीएमओ के नाम से इस आशय  की..पर्ची भारी मात्रा में पाई गई जिस में उल्लेख किया गया है कि मतदाता अपने मतों का प्रयोग संपन्न होने जा रहे लोकसभा चुनाव में सपा बसपा गठबंधन के नाम से करें संपन्न होने जा रहे लोकसभा के चुनाव  मैं मैं लोग अपना मत सपा बसपा गठबंधन के पक्ष में करें. जौनपुर के कलेक्ट्रेट स्थित परिसर में आज जौनपुर के सीएमओ राम जी पांडे के नाम से सपा बसपा गठबंधन के पक्ष में मतदाताओं से मत देने की अपील की गई है  वहीं दूसरी तरफ जब इस पूरे मामले की जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी रामजी पांडे को हुई तो उन्होंने आनन फानन में पत्रकार वार्ता. बुलाकर यह बताया कि हमारे विभाग के ही कुछ कर्मचारी हमारे सही कार्यों के संचालन को लेकर असंतुष्ट हैं हो सकता है कि कहीं न कहीं ऐसे कर्मियों की यह फितरत हो फिलहाल यह मामला तो पुलिस की जांच का विषय है  उन्होंने बताया कि पूरे प्रकरण की जानकारी जिला प्रशासन के अधिकारियों को दे कर संबंधित थानाध्यक्ष लाइन बाजार को मेरे द्वारा प्रार्थना पत्र दिया जा रहा है ताकि इस पर मुकदमा पंजीकृत कर दोषी जनों को दंडित किया जाए ... पत्रकार वार्ता के दौरान सीएमओ ने बताया कि कलेक्ट्रेट में मॉर्निंग मॉर्निंग वॉक करने लोक परिसर में पीले रंग की पर्ची पाए तो उसमें विधिवत सीएमओ जौनपुर के नाम से अनुरोध किया गया है कि सपा बसपा गठबंधन के पक्ष में मतदाता अपने मतों का प्रयोग करें लारी सांसों की सूचना फिलहाल इस आशय की सूचना मुख्य चिकित्सा अधिकारी राम जी पांडे ने जिलाधिकारी/ जिला निर्वाचन अधिकारी अरविंद मल्लप्पा  बंगारी एवं पुलिस अधीक्षक को दे दी गयी है ।

आज एक और दलबदलू को टिकट हासिल करने में मिली सफलता,मिर्जापुर से सपा ने रामचरित्र को बनाया प्रत्याशी

मिर्जापुर- आज सपा के मुखिया ने मिर्जापुर लोकसभा से रामचरित्र निषाद को प्रत्याशी बनाया, एक हफ्ते हुए ये जनाब भाजपा के सांसद हुआ करते है और आज उनको सपा ने अपना प्रत्याशी बनाया है,वाह रे देश की राजनीति आज दलबदलुओं का तवज्जों कितना जग जाहिर  है ये आप टिकट बंटवारे से जान सकते है कि कुछ दिन पूर्व मछलीशहर लोकसभा बसपा के प्रत्याशी के रूप में थे लेकिन दल बदलते ही उनको भाजपा ने मछलीशहर इसे ही अपना प्रत्याशी बना दिया ये आज की जनता को खुद हो विचार करना होगा कि दलबदलुओं को जनता सबक सिखाएगी या जीत का सेहरा बाँधती है।

सुभासपा ने राजग से तोड़ा नाता, राजभर ने दिया कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा

बलिया-एक लंबे इंतजार के बाद सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से नाता तोड़कर पूर्वी उत्तर प्रदेश में 25 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की है।
सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) अध्य्क्ष और प्रदेश सरकार में मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने सोमवार को यहां कहा कि रसड़ा में पार्टी कार्यालय पर पदाधिकारियों की बैठक बुलायी गयी थी। आपात बैठक में भाजपा और राजग से नाता तोड़कर पूर्वी उत्तर प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने उनकी पार्टी के लिए केवल घोसी संसदीय सीट छोड़ी थी। उस पर भी यह शर्त थी कि उनके प्रत्याशी को भाजपा के चिन्ह पर चुनाव लड़ना होगा।

जौनपुर के भोजपुरी स्टार रवि किशन को गोरखपुर से तो जौनपुर के मौजूदा सांसद केपी सिंह को जौनपुर लोकसभा से भाजपा ने बनाया ने बनाया अपना प्रत्याशी

लखनऊ- आज बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी जेपी नड्डा ने यूपी के सात सीटों का ऐलान किया जिसमें गोरखपुर से जौनपुर के लाल रवि।किशन को मौका दिया है तो जौनपुर मौजूदा सांसद पर पार्टी ने अपना विश्वास कायम रखा है तो भदोही से एवी बिंद, अम्बेडकनगर से मुकुट बिहारी को मौका दिया है तो संतकबीरनगर से प्रवीन निषाद को और देवरिया से रामपति राम त्रिपाठी को पार्टी ने अपना विश्वास जताया .