health

Breaking News

जौनपुर तिलक तराजू और तलावर इनको मारो जूते चार इस पर क्या बोला रवि किशन गोरखपुर 24UPNEWS.COM पर

लालगंज में औचक छापेमारी में बीस लाख से अधिक का सरकारी खाद्यान्न बरामद

डीएम के औचक निर्देश पर एसडीएम ने कोतवाल के साथ की दिनभर छापेमारी
 प्रतापगढ़। जिलाधिकारी के अचानक आए फरमान के तहत एसडीएम लालगंज ने अचानक छापेमारी के तहत कस्बे से लगभग तीन हजार सरकारी खाद्यान्न की बोरियों को बरामद किया। प्रशासनिक अनुमान के तहत पकड़ा गया सरकारी खाद्यान्न अनुमानित बीस लाख से अधिक मूल्य का आंका गया है। शुक्रवार की सुबह एसडीएम जयनाथ ने लालगंज कोतवाल आरएन उपाध्याय के साथ अचानक कस्बे समेत तहसील क्षेत्र में राइसमिलों व गोदामों पर छापेमारी की कार्रवाई शुरू की। सबसे पहले प्रशासनिक अमले ने कस्बाई गांव शीतलमऊ के जंगलीबीर बाबा के पास एक निजी गोदाम मंे छापा मारा। यहां से 513 बोरी गेंहू व 376 बोरी सरकारी चावल बरामद किया गया। इसके बाद एसडीएम ने पुलिस दल के साथ खलसा सादात के एक राइसमिल पर छापेमारी की कार्रवाई की। यहां जारी कार्रवाई के तहत 350 बोरी चावल व 500 बोरी गेंहू प्रारंभिक कार्रवाई की पकड़ में आया। देर शाम तक यहां लगभग दो हजार बोरी सरकारी खाद्यान्न मिलने की बात एसडीएम तथा जिले के एसडीओ देवेन्द्र सिंह ने स्वीकार किया है। प्रशासनिक सूत्रों के मुताबिक इन दोनों स्थानों से बरामद सरकारी खाद्यान्न की कीमत लगभग पचीस लाख से अधिक की आंकी जा रही है। वहीं प्रशासनिक टीम ने इन बरामद खाद्यान्नों को शत प्रतिशत सरकारी होने का भी दावा किया है। तहसील क्षेत्र में हुई प्रशासनिक छापेमारी की कार्रवाई को लेकर खाद्यान्न सिंडिकेट में हड़कंप का माहौल पूरे दिन देखा गया। कस्बा स्थित शीतलमऊ के निजी गोदाम में छापेमारी की कार्रवाई के दौरान रमेश कौशल को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। वहीं खलसा सादात राइसमील से मिल संचालक संतोष जायसवाल के भाई भोला को भी पुलिस पूछताछ के लिए हिरासत में ले आई है। तीन स्थानों पर छापेमारी के बाद गोदामों तथा राइसमिलों के शटर अचानक गिरने लगे तथा इन गोदामों व राइसमिलों के संचालक तालाबंदी कर फरार होने लगे। छापेमारी के दौरान जिले के डीएम अमृत त्रिपाठी भी तहसील प्रशासन के आला अफसर से पल पल की खबर लेते रहे। डीएम ने तहसील प्रशासन को बिना किसी दबाव के कार्रवाई जारी रखने के निर्देश दिए। इसके तहत तहसील प्रशासन पूरे दिन कार्रवाई को लेकर पसीना बहाता नजर आया। प्रशासनिक अमला लालगंज क्षेत्र के बाद जलेशरगंज स्थित श्रीराम टे्रडर्स राइसमिल पहुंचा। यहां भी खुला रखा चावल तथा बोरियों में चावल व गेंहू के साथ यूरिया तथा डाई खाद का लाट देखकर प्रशासन हतप्रभ हो उठा। डीएम ने जिले के डीएसओ को जलेशरगंज में गिरफ्त में आए खाद्यान्न की हकीकत खंगालने को भेजा। हालाकि डीएसओ देवेंद्र सिंह ने देर शाम जलेशरगंज में खाद्यान्नों तथा यूरिया को निवेश एंव मंडी विभाग की सूचना के आधार पर सरकारी न होने की जानकारी दी। कस्बे में चर्चा के मुताबिक शुक्रवार की सुबह किसी ने डीएम को उनके मोबाइल पर यहां सरकारी खाद्यान्न  होने की जानकारी दे दी। इसके बाद डीएम का फोन एसडीएम के सीयूजी पर घनघनाया। जिलाधिकारी के तल्ख तेवर को देख एसडीएम ने लालगंज कोतवाल के साथ भोर से ही छापेमारी की कार्रवाई शुरू कर दी। भारी मात्रा में पकड़े गए खाद्यान्न के सिंडिकेट को लेकर तरह तरह की चर्चा देखी गई। वहीं पकड़े गए खाद्यान्न की बोरियों पर हरियाणा एवं पंजाब प्रदेश के मार्का के द्वारा एफसीआई को आपूर्ति की बात भी सामने आई है। वहीं कोटेदारों के द्वारा कालाबाजारी के तहत गोदामों व राइसमिलों में सरकारी खाद्यान्न के कालाबाजारी की भी चर्चा जोरों पर रहीं।

No comments:

Post a Comment