health

Breaking News

जौनपुर की इत्र,इमरती व् ईमानदारी की दी जाती है मिसाल-सीएम योगी 24UPNEWS.COM पर

जब भी आतंकी भारत में घुसपैठ करने की कोशिश करेंगे तो उन्हें इसी तरह करारा जवाब दिया जाएगा - पीएम मोदी

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में एलओसी पर सर्जिकल स्ट्राइक करके भारत ने पाकिस्तान सरकार को ये सख्त संदेश दे दिया है कि अब भारत सीमापार से आतंकी हमलों पर चुप नहीं बैठेगा और केवल राजनैतिक जवाब ही नहीं बल्कि सैन्य कार्यवाही को भी अंजाम दिया जा सकता है। 
मोदी ने कहा कि जब भी आतंकी भारत में घुसपैठ करने की कोशिश करेंगे तो उन्हें इसी तरह करारा जवाब दिया जाएगा। इस सर्जिकल स्ट्राइक से मोदी सरकार का संदेश साफ था कि हम पहल तो नहीं करेंगे लेकिन अगर किसी ने हमें आंखे दिखाई तो हम चुप भी नहीं बैठेंगे।
सूत्रों के मुताबिक जब कल रात भारतीय सेना को खबर मिली की आतंकी फिर से भारत में घुसपैठ कर किसी बड़े हमलों को अंजाम देने की तैयारी में है तो भारतीय सेना ने तुरंत आधी रात को एलओसी के उस पार चल रहे आतंकी ठिकानों को नस्तनाबूत कर दिया।
एलओसी पर पाकिस्तान की तरफ से लगातार गोला-बारी से परेशान होकर ही साल 2004 में उस वक्त के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने पाकिस्तान से सीज फायर समझौता किया था।
जनवरी 2004 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ की इस्लामाबाद में मुलाकात हुई थी। इस बातचीत के बाद वाजपेयी ने कहा था कि बातचीत को सकारात्मक तौर पर आगे बढ़ाने के लिए आतंकवाद और हिंसा को रोका जाना जरूरी है। वहीं मुशर्रफ ने आश्वासन दिया था कि पाकिस्तान की धरती से किसी भी आतंकी गतिविधियों को समर्थन नहीं दिया जाएगा, चाहे वो किसी भी देश के खिलाफ हो।
समझौते के ठीक 12 साल बाद देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना को पाक के कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर आतंकियों को खत्म करने के लिए भेज दिया।
18 सितंबर को हुए उरी में हमले के बाद से पाकिस्तान के खिलाफ कार्रावाई न होने को लेकर पूरे देश में लोग गुस्सा थे और लगातार सरकार से पाक के खिलाफ कार्यवाही की जाने की मांग कर रहे थे।
सूत्रों के मुताबिक उरी हमले के बाद हर स्तर पर पाकिस्तान को घेरने और अलग-थलग करने की योजना में सफलता पाने के बाद और पक्की जानकारी मिलने पर की सीमा के उस पार आतंकी फिर हमले को अंजाम देने की तैयारी में है, मोदी सरकार ने सेना को सर्जिकल स्ट्राइक कर आतंकियों को मौत के घाट उतारने का आदेश दे दिया।
बता दें उरी हमले के बाद ही पीएम मोदी ने ट्विटर पर देशवासियों से कहा था कि उरी हमले में शहीद हुए सैनिकों की कुर्बानी बेकार नहीं जाएगी और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होंगे उन्हें इसकी सजा दी जाएगी।
सूत्रों के मुताबिक हेलिकॉप्टर से किए गए इस स्ट्राइक में भारतीय सेना के स्पेशल कमांडों को डेढ़ घंटे का समय लगा जिसमें कई आतंकियों को मार गिराया गया और 7 आतंकी लॉन्च पैड को पूरी तरह खत्म कर दिया गया। सर्जिकल स्ट्राइक की पूरी मॉनिटरिंग रक्षा मंत्री, सेना प्रमुख, डीजीएमओ और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल खुद कर रहे थे। आतंकवाद के मोर्च पर पाकिस्तान के लिए भारत की तरफ से इसे करारा जवाब माना जा रहा है।

No comments:

Post a Comment