health

Breaking News

जौनपुर में भीड़ की तालिबानी सजा देखिये लाइव पिटाई का वीडियो 24UPNEWS.COM पर

बाबू बैजनाथ प्रसाद एजुकेशनल ट्रस्ट द्वारा बाबू बैजनाथ प्रसाद की स्मृति में गरीबो को बाटां गया कम्बल

जौनपुर - आज बाबू बैजनाथ प्रसाद एजुकेशनल ट्रस्ट द्वारा बाबू बैजनाथ प्रसाद की स्मृति में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण एवं कम्बल वितरण समारोह का आयोजन बाबू बैजनाथ प्रसाद शिक्षण प्रशिक्षण संस्थान व आशीर्वाद नर्सिंग एंड पैरामेडिकल कॉलेज छितौना जलालपुर प्रांगण में  बाबू बैजनाथ प्रसाद की पूण्यतिथि मनाई गयी |
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि व अध्यक्ष  पी.सी. विश्वकर्मा  व विशिष्ट अतिथि ने  माँ सरस्वती तथा बाबू जी के तैलचित्र  पर माल्यार्पण  और दीप प्रज्ज्वलन करके कार्यक्रम का शुभारम्भ किया आये हुए अतिथियों ने  बाबू बैजनाथ जी के चित्र पर पुष्प अर्पण कर श्रद्धांजलि दिया | डी.एल.एड. एव बी.एड. के छात्राओं द्वारा गणेश वंदना, सरस्वती वंदना के माध्यम से कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया, स्वागत गीत जी.एन.एम. के छात्राओं द्वारा प्रस्तुत किया, राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त शिक्षक मो. असलम ने सभी अतिथियों का स्वागत, वाणी के माध्यम से किये, मो.शाहिद ने  सभी अतिथियों को बैज अलंकरण, माल्यार्पण, बुके भेंट कर स्वागत किया|  इस अवसर पर लगभग चार सौ गरीब,विकलान्ग और असहाय लोगो को कम्बल वितरित किया गया | इस अवसर पर मुख्य अतिथि...... ने कहा कि गरिबों और असहायो की सेवा करना सबसे बड़ा धर्म है और उन्होंने लोगों से कहा कि हर नागरिक को अपने संविधान का पालन करना चाहिए।महाविद्यालय के चेयरमैन डॉ0 विनोद कुमार ने आये हुए अतिथियों का स्वागत किया और उन्होंने कहा कि एक इंसान तभी अच्छा हो सकता है जब वह समाज की सेवा करे और लोगों के लिए भलाई का कार्य करे। इस पुण्यतिथि के अवसर पर केराकत विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री दिनेश चौधरी जी ने कहा कि अन्नदान एवं वस्त्र दान सबसे बड़ा दान है।उन्होंने कहाँ की हमारा परिवार हमेशा से मिलजुलकर समाज की जो सेवा कर रहा है ये प्रेरणा हमारे बाबू बैजनाथ प्रसाद जी से मिली है।
कार्यक्रम का संचालन राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त ओमप्रकाश चक्रवर्ती ने किया।
और कृषि वैज्ञानिक डॉ0 सुरेश कुमार ने आये हुए लोगो के प्रति आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर पूर्व प्रधान राजा कन्नौजिया,सुरेंद्र, अशोक, अखिलेश, राजेन्द्र प्रसाद, हरिश्चंद्र,धर्मराज,डॉ0 बालकृष्ण आनंद,आदि मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment