health

Breaking News

जौनपुर के चन्दवक थाना अंतर्गत आजमगढ़ वाराणसी मपर स्थित गोमती पुल से गिरी सवारी बस। गिरने के बाद धूं धूं कर जली बस ,एक दर्जन से ज्यादा यात्री घायल 24UPNEWS.COM पर

चिकनपॉक्स की सूचना पर स्वास्थ्य विभाग ने तत्काल की कार्रवाई

मऊ- रानीपुर ब्लॉक के अमारी गांव में कई लोगों में चिकनपॉक्स के लक्षण पाये जाने की सूचना पर स्वास्थ्य विभाग ने तत्काल मौके पर पहुंचर लोगों का इलाज शुरू कर दिया है। मरीजों के पहचान राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत गृह भ्रमण के दौरान हुई थी। 
रानीपुर ब्लॉक की बीसीपीएम हुमैरा ने बताया कि अमारी गांव में उनकी आशा माला जो घर-घर जाकर लोगों के स्वास्थ्य की देखभाल करती हैं, को पता चला कि अमारी गांव के कई लोगों में चिकनपॉक्स के लक्षण दिखाई दिये जिसकी सूचना ब्लॉक को दी। इसके बाद प्रभारी चिकित्साधिकारी डा. योगेश गौतम, स्वास्थ्य प्रर्वेक्षक जय श्री यादव, बीएसडब्लू मंगल सेन, बीएमसी बीडी भारती ने पहुंचकर बच्चों समेत सभी की जांच की। 16 लोग इस रोग से ग्रसित पाये गये उन्हें उचित परामर्श और जांच के साथ निःशुल्क दवा दी गयी।
सीएमओ डा॰ सतीशचन्द्र सिंह ने बताया कि मौसम बदलने के साथ वायरल बीमारी का प्रकोप बढ़ जाता है। चेचक या चिकनपॉक्स ‘वेरीसेला जोस्टर’ नामक वायरस के कारण फैलता है। इस विषाणु के शिकार लोगों के पूरे शरीर में फुंसियों जैसी लाल-लाल चक्तियां हो जाती हैं। इसका कोई विशेष टीकाकरण अभी तक मौजूद नहीं है। चिकनपॉक्स यह काफी पीड़ादायक रोग है। एक बार होने पर इसका असर सात दिनों तक काफी तीव्र रहता है। इससे अन्य लोगों के भी संक्रमित होने की आशंका रहती है। मरीज को आइसोलेशन में रखना चाहिए। 
सीएमओ ने बताया कि इसका टीकाकरण बच्चों में होता है लेकिन कभी-कभी उसके बाद भी यह रोग होने की आशंका रहती है। साफ-सफाई के अभाव में इस बीमारी फैलने की आशंका रहती है। थोड़ी सी सावधानी से इन बीमारियों से बचाव किया जा सकता है। रोगी के पास अच्छे से साफ-सफाई रखें, जिससे संक्रमण बढ़ने न पाएं। हवा और खांसी के माध्यम से संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के शरीर तक पहुंच जाता है।
कैसे फैलता है चिकनपॉक्स
चिकनपॉक्स गर्भावस्था, प्रसव या देखभाल के दौरान माँ से बच्चें को, खांसते या छिकतें समय हवा के साथ निकलने वाली छोटी -छोटी बूदों से त्वचा से संपर्क होने पर (हाथ मिलाना या गले लगना), मुहं की लार से (जूठा खाने-पीने से), किसी गंदी या मैली सतह को छुने से यह फैलता है। इसके फैलने पर चिकनपॉक्स ग्रसित व्यक्ति को आराम करने दें। उसे अन्य सदस्यों से दूर अलग साफ़-सुथरे  कमरे में ठहराएं ताकि दूसरे लोग ग्रसित न हो सकें। शरीर में पड़ें दानों को फोड़ना नहीं चाहिए। उन्हें स्वयं ही फूटने का इंतजार करें। ग्रसित व्यक्ति के बेड की चादर को साफ़ सुथरा रखें, हो सके तो रोजाना धुलें। साफ़ स्वच्छ धुले हुए कपडें ही पहनाएं। प्रशिक्षित चिकित्सक से ही सलाह व इलाज लें।
---

No comments:

Post a Comment