health

Breaking News

जौनपुर में भीड़ की तालिबानी सजा देखिये लाइव पिटाई का वीडियो 24UPNEWS.COM पर

गांव में होमगार्ड कार्यालय के विवादित जमीन का मामला। गांव का नक्शा रिकार्ड रूम से गायब

रिपोर्ट-अखिलेश सिंह।
जफराबाद (जौनपुर) होमगार्ड कार्यालय भवन के सरकारी निर्माण कार्य को लेकर किसानों तथा जिला प्रशासन के बीच विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई है। जिला प्रशासन ने कड़ा रुख अपनाया तो गांव के दो किसानों ने आत्मदाह करने की धमकी दी।
जिला मुख्यालय के पास स्थित जफराबाद थाना क्षेत्र के जगदीशपुर गांव में जिला प्रशासन ने होमगार्ड कार्यालय बनाने के लिए वर्ष 2016 में भवन निर्माण का कार्य शुरू किया था। वर्ष 2018 तक भवन निर्माण कार्य लगभग कंप्लीट कर लिया गया। उक्त होमगार्ड कार्यालय ग्राम समाज के जमीन में बनाया जा रहा है। जगदीशपुर गांव के किसान प्रेम शंकर सिंह ने उक्त निर्माण को अपनी जमीन में बनाए जाने के मामले में मुंसफ शहर के यहां मुकदमा किया था। मुकदमा के कुछ दिन बाद उनकी मृत्यु हो गई। मृत्यु के बाद उनके भाई हरिशंकर ने मुकदमे की पैरवी शुरू किया। वर्ष 2018 में मुंसफ शहर ने मामले में स्टे दिया था। आदेश था कि उक्त जमीन में कोई भी निर्माण कार्य न कराया जाए। मामले में सोमवार को ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में जिला प्रशासन की टीम उक्त गांव में गयी थी। किसान हरिशंकर तथा रविशंकर ने  पक्की नाप कराकर उक्त मामले में निर्णय किये जाने का प्रस्ताव ज्वाइंट मजिस्ट्रेट के समक्ष रखा। आपत्ति करते हुए प्रशासन ने बिना पक्की नाप कराये सरकारी निर्माण कार्य की बात कही। तथा सरकारी कार्य में बाधा डालने पर मुकदमा करने की वार्निंग दिए। किसान रवि शंकर तथा हरिशंकर ने से कहा कि जोर जबरदस्ती करेंगे तो हम आत्मदाह कर लेंगे। सोमवार को हरिशंकर के तथा गांव वालों के विरोध पर  प्रशासन मौके से वापस होना पड़ा। मंगलवार को पुनः जिला प्रशासन की टीम  मामले में दस्तक देने वाली थी। गांव वाले जिला प्रशासन के निर्णय को जानने के लिए इंतजार में थे लेकिन किसी कारणवश मामले में कोई नहीं पहुंचा। 


मामले में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट सत्य प्रकाश से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि होमगार्ड भवन निर्माण कार्य को सरकारी भूमि में करवाया जा रहा है। पिछले चार वर्षों से निर्माण कार्य चल रहा है। निर्माण कार्य के दौरान किसी ने कोई आपत्ति नहीं किया। अब बाउंड्री की बारी आई तो उक्त गांव के किसान सरकारी निर्माण कार्य रोकने का प्रयास कर रहे हैं। आत्मदाह की धमकी दे रहे हैं। पक्की नाप बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उक्त गांव का नक्शा गायब हो गया है, बोर्ड आफ रिवेन्यू से नक्शे की मांग की गई है। सूत्रों की माने तो बोर्ड आफ रिवेन्यू ने कोई नक्शा नहीं उपलब्ध होने की की रिपोर्ट दी है।

No comments:

Post a Comment