health

Breaking News

जौनपुर तिलक तराजू और तलावर इनको मारो जूते चार इस पर क्या बोला रवि किशन गोरखपुर 24UPNEWS.COM पर

 


जौनपुर- जनपद के* मड़ियाहूं कोतवाली क्षेत्र के शिवपुर बाईपास पर जय मां विंध्यवासिनी टी स्टाल एवं मिष्ठान भंडार की दुकान पर सुरेरी थाने में तैनात उपनिरीक्षक हैदर अली को आज 10 हजार रिश्वत लेते हुए एंटी करप्शन टीम ने रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया है।

           सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वादी महातिम पांडेय पुत्र स्वर्गीय विश्वनाथ पांडेय निवासी ग्राम कठवतिया थाना सुरेरी का पड़ोसी अंबिका से जमीनी विवाद चल रहा था जिस में मुकदमा पंजीकृत था उस मुकदमे में एक आरोपी  का नाम निकालने के नाम पर उपनिरीक्षक हैदर अली ने 10  हजार रिश्वत की मांग किया। इस घटना को लेकर भुक्तभोगी महातिम पांडेय ने एंटी करप्शन वाराणसी युनिट को सूचना दिया ,जिसके आधार पर आज मंगलवार की शाम एंटी करप्शन टीम मड़ियाहूं में पहुंची और वादी द्वारा   शिवपुर बाईपास मिष्ठान की दुकान पर रुपए के लेन-देन की बात बताई गई, जहां पर उपनिरीक्षक हैदर अली वर्दी व रिवाल्वर के साथ मौके पर पहुंचे और एंटी करप्शन टीम द्वारा दिए गए केमिकल लगे दस हजार रूपए वादी महातिम पांडेय ने जैसे ही दरोगा को सौंपा की एंटी करप्शन टीम ने तत्काल उन्हें गिरफ्तार कर लिया और मडियाहू कोतवाली लाकर उनका हाथ धुलाया तो पानी लाल हो गया। आरोपी रिश्वतखोर दरोगा हैदर अली के विरुद्ध  मडियाहू कोतवाली में सुसंगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया गया।


      इस मौके पर सहयोग में मड़ियाहूं पुलिस व एंटी करप्शन टीम में निरीक्षक श्रीमती संध्या सिंह, उपेंद्र सिंह, अशोक कुमार सिंह यादव, शैलेंद्र कुमार राय, सुनील कुमार यादव, पुनीत कुमार सिंह व सुमित कुमार सहित संयुक्त टीम मौके पर मौजूद रहे।

जब तोप मुकाबिल हो अखबर निकालो: मनोकामना राय*


जौनपुर
 ---खीचों न कमानों को न तलवार निकालो, जब तोप मुकाबिल हो अखबर निकालो। आगे उन्होंने कहाकि हिन्दी अखबारों ने आम आदमी के आवाज को मजबूती दी है। पत्रकार समाज को बेहतर बनाने के लिए काम करता है इसलिए उसे सजग और सतर्क रहना होगा। पत्रकारों को चकाचौंध से दूर रहना होगा तभी उनमें चमक पैदा होगी। 

         उक्त उक्त बातें मनोकामना राय जिला सूचना अधिकारी ने पत्रकार भवन में पत्रकार संघ द्वारा आयोजित समारोह को बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित कर रही थी। 


      इसी क्रम में कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे प्रदीप सिंह ने कहाकि संसाधन के अभाव में हिन्दी पत्रकारिता अंग्रेजी पत्रकारिता से पीछे ही रह गयी। नाटो जैसे संगठन अंग्रेजी पत्रकारिता में अपना देश हित देखते हैं और उसी हिसाब से खबरे बनाते हैं। कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए जौनपुर पत्रकार संघ के अध्यक्ष शशिमोहन सिंह क्षेम ने कहाकि हिन्दी पत्रकारिता दुनिया में सबसे समृद्धि पत्रकारिता है। उन्होंने कहा कि हिन्दी पत्रकारिता की गरिमा निष्पक्षता एवं विशिष्टता को नकारा नहीं जा सकता। 

        श्री सिंह ने आगे जौनपुर पत्रकार संघ द्वारा पूर्व में निःस्वार्थ भाव से कराये गये विभिन्न कार्यों को लोगो के बीच रखा, जिसे सराहा गया। इसके पूर्व तहसील इकाई मछलीशहर के अध्यक्ष आरपी सिंह व महामंत्री अनिल पांडेय, मड़ियाहूं के अध्यक्ष राधाकृष्ण शर्मा महामंत्री अनिल सिंह, केराकत के अध्यक्ष अमित सिंह व महामंत्री दिनेश सिंह, बदलापुर इकाई के महामंत्री शशि कुमार गुप्ता को अंगवस्त्रम् बुके व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। 


       कार्यक्रम का शुभारंभ जिला सूचना अधिकारी मनोकामना राय ने सरस्वती प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर किया। इसके बाद वरिष्ठ पत्रकार लोलारक दुबे दूबे, रामदयाल द्विवेदी, ऋषि प्रकाश सिंह, गौरव सिंह मोंटी, राजेश मिश्रा, शशिराज सिन्हा,  देवेन्द्र सिंह, राजीव पाठक आदि लोगों ने मुख्य अतिथि व अध्यक्ष का माल्यार्पण कर स्वागत किया। संगोष्ठी का संचालन महामंत्री डा0 मधुकर तिवारी ने किया।

सावरकर के चिंतन में था सम्पूर्ण राष्ट्र का विकास- प्रो अविनाश

 



विनायक दामोदर सावरकर की जयंती पर वेबिनार का हुआ आयोजन


जौनपुर---वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय, जौनपुर द्वारा "आजादी के अमृत महोत्सव" कार्यक्रम  के अन्तर्गत ‘विनायक दामोदर सावरकर जयंती' के उपलक्ष्य में शनिवार की शाम क्रांतिकारी आंदोलन के विकास में वीर सावरकर का योगदान विषयक वेबिनार हुआ।यह आयोजन कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य के संरक्षकत्व में महिला अध्ययन केन्द्र द्वारा आयोजित किया गया।


वेबिनार के मुख्य वक्ता प्रबंध अध्ययन संकाय के अध्यक्ष प्रो अविनाश पाथर्डीकर ने विस्तार से विनायक दामोदर सावरकर के कृतित्व एवं व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि विनायक दामोदर सावरकर काले पानी की सजा के दौरान कोयले से जेल की दीवारों पर हजारों कविताएं लिखी और उन्हें याद किया। जिस जेल में कुछ ही महीने की सजा में कैदी आत्महत्या कर लेते हैं वहां वीर सावरकर ने 11 महीने बिताया और सृजन किया।

उन्होंने कहा कि वीर सावरकर ने संपूर्ण राष्ट्र के विकास का चिंतन किया था। नेताजी सुभाष चंद्र बोस को आजादी की लड़ाई के लिए प्रेरित करने में उनका बड़ा योगदान रहा।

उन्होंने कहा कि सावरकर द्वारा लिखित पुस्तक इंडियन वार ऑफ इंडिपेंडेंस 1857 को प्रकाशित होने के पहले ही अंग्रेजों द्वारा प्रतिबंधित कर दिया गया था। उन्होंने कहा कि हिंदी भाषा के दिनांक, क्रमांक,परीक्षक, क्रीडांगन जैसे शब्द सावरकर की ही देन है।


आज़ादी का अमृत महोत्सव के नोडल अधिकारी प्रो. अजय प्रताप सिंह ने स्वागत एवं

कार्यक्रम की आयोजन सचिव डॉ० जान्हवी श्रीवास्तव ने संचालन किया आभार डॉ दिग्विजय राठौर ने ज्ञापित किया ।इस अवसर पर डॉ राकेश यादव ,डॉ गिरधर मिश्र, डॉ राजेश, डॉ अन्नू,डॉ मनोज ,डॉ दिग्विजय सिंह, डॉ सुनील कुमार,डॉ नितेश,डॉ शशिकांत,डॉ रेखा ,डॉ पूजा ,डॉजया ,डॉ शिखा श्रीवास्तव,डॉ पूनम,डॉ मुक्ता राजे,उपस्थित रहे तथा तकनीकी सहायता शोधछात्र अवनीश विश्वकर्मा ने दिया।

व्यावहारिक मनोविज्ञान के शोध छात्र अवनीश विश्वकर्मा बने असिस्टेंट प्रोफेसर


जौनपुर---
वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के व्यावहारिक मनोविज्ञान विभाग के शोध छात्र अवनीश विश्वकर्मा का चयन उच्च शिक्षा विभाग में असि प्रोफ़ेसर पद पर हो गया है, जिसकी खबर सुनते ही पूरे व्यावहारिक मनोविज्ञान विभाग  में ख़ुशी की लहर छा गयी।

अवनीश की शोध निर्देशिका डॉ जाह्नवी श्रीवास्तव ने बताया कि शुरू से ही यह विद्यार्थी मेहनती और मेधावी रहा है ,इसकी लगन और मेहनत ने हम सबका सिर गर्व से ऊँचा कर दिया है ऐसे विद्यार्थियों से ही आने वाली पीढ़ी प्रेरणा लेगी और इसी तरह विभाग और शिक्षक का नाम रोशन करेगी।

चुप्पी तोड़ो स्वस्थ रहो मासिक चक्र से न रहो अज्ञान स्त्री शक्ति पर करो अभिमान

 


जौनपुर---मासिक धर्म स्वच्छता दिवस के अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष डा अंजना सिंह की अध्यक्षता में राष्ट्रीय हिंदू भगवा वाहिनी संगठन की महिला पदाधिकारियों द्वारा झुग्गी बस्तियों

 में  चौपाल लगाकर महिलाओं और बच्चियों को मासिक धर्म स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया।


कार्यक्रम  में महिलाओं और बच्चियों को मासिक धर्म के नियमों और  सावधानियों और बचाव के बारे में बताया गया और पैड वितरण किया गया इस अवसर पर डॉ अंजना सिंह ने कहा कि मासिक धर्म एक स्वाभाविक एवं सामान्य प्रक्रिया है किशोरावस्था में शरीर और मस्तिष्क के बदलाव को समझने के लिए सकारात्मक रूप से किशोरों को सही सलाह की जरूरत होती है  बहुत सी किशोरियों को माहवारी के दौरान सेनेटरी पैड की जरूरत और महत्व के बारे में सटीक जानकारी नहीं होती है साथ ही संकोच वश वह इस  विषय पर अन्य लोगों से चर्चा भी नहीं कर पाती हैं यही समय है जब किशोरियों को इस संबंध में उचित सलाह देकर जागरूक किया जाए । रेखा सिंह ने कहा है मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता बहुत जरूरी है इससे  संक्रमण रोकथाम में मदद मिलती है ।अर्चना त्रिपाठी ने कहा महामारी के दौरान अगर  स्वच्छता पर ध्यान ना दिया जाए तो बच्चेदानी में संक्रमण पहुंच जाता है कि से गर्भाशय बाधित या खत्म हो सकता है ।इस अवसर पर संगठन  की सभी महिला पदाधिकारी उपस्थित रही जिसमें रेखा सिंह अर्चना त्रिपाठी सीमा तिवारी पूजा‌ मिश्रा  आदि पदाधिकारी मौजूद रहै ।

सीडीपीओ की मेहनत रंग लाई, 400 ग्राम बढ़ा बच्ची का वजन




जौनपुर-
-डिस्चार्ज होकर लौटी घर, स्वस्थ देखकर मां हुई खुशहाल


-सैम बच्ची को एनआरसी में भर्ती करा कराया गया इलाज


बकरी और अपने भोजन की व्यवस्था में दिक्कत देख दादी मां बच्ची को पोषण पुनर्वास केन्द्र (एनआरसी) में भर्ती कराने के लिए तैयार नहीं थीं। बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ) मनोज कुमार वर्मा ने पहले मां और फिर पिता से बात की। उनकी मेहनत रंग लाई। एक सप्ताह में ही अति गंभीर कुपोषित (सैम) बच्ची का वजन 400 ग्राम बढ़ गया। वह स्वस्थ होकर घर चली गई। बच्ची को स्वस्थ देखकर अब उसकी मां फूले नहीं समा रही है। 


मामला सिरकोनी ब्लाक के हौज गांव का है। वहां के पवन राजभर और ज्ञानती के घर नौ फरवरी बेटी पैदा हुई। 19 फरवरी को उसका वजन 2.300 किलोग्राम था। इससे वह सुस्त रहती और दूध भी नहीं पीती थी। वहां की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता इन्दूबाला उसके घर गईं। उन्होंने बच्ची की मां से उसके स्वास्थ्य के संबंध में बात की और बच्ची को पोषण पुनर्वास केन्द्र (एनआरसी) में भर्ती कराने को कहा। सब कुछ जानकर मां तो भर्ती कराने के लिए तैयार हो गई लेकिन बच्ची की दादी नहीं तैयार हुईं। उसने कहा कि तुम चली जाओगी तो बकरी को कौन खिलाएगा और कौन मुझे खाना बनाकर खिलाएगा। परिवार को समझा पाने में नहीं कामयाब होने पर इन्दूबाला ने स्थिति को गंभीरता से सिरकोनी के सीडीपीओ मनोज कुमार वर्मा को अवगत कराया। इस पर सीडीपीओ भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने बच्ची की दादी से पूछा कि बच्ची को एनआरसी में भर्ती कराने से आपको क्या दिक्कत है? भर्ती कराने से उसका वजन बढ़ जाएगा। वह स्वस्थ हो जाएगी। जितने दिन भर्ती रहेगी प्रतिदिन 50 रुपये के हिसाब से मिलेगा भी। बच्ची की दादी तब भी तैयार नहीं हुईं।



  दादी के नहीं तैयार होने पर सीडीपीओ मनोज कुमार वर्मा ने बच्ची के पिता पवन राजभर से बात की। वह चेन्नई में नौकरी करते हैं। उन्हें समझाया कि बच्ची बहुत कमजोर है और कभी भी कुछ हो सकता है। भर्ती करा दीजिये, वहां पर नहीं अच्छा लगता है तो तुरंत गाड़ी से वापस करा दूंगा। 15 मिनट समझाने पर पिता तैयार हो गए। बच्ची एक सप्ताह भर्ती रही। इस दौरान उसका वजन 400 ग्राम बढ़ गया। 25 मई को वह डिस्चार्ज हो गई। इस समय उसका वजन 2.700 किलोग्राम हो गया। अब देखने में भी अच्छी लग रही है।



सीडीओ ने किया था निरीक्षण: बच्ची के भर्ती रहने के दौरान मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) अनुपम शुक्ला एनआरसी का निरीक्षण करने पहुंचे थे। उन्होंने बच्ची की मां ज्ञानती से पूछा था कोई दिक्कत तो नहीं है? दिक्कत हो तो बताना। इस दौरान डीपीओ डा आरबी सिंह तथा सीडीपीओ मनोज कुमार वर्मा भी मौजूद थे। 



  23 जून 2020 को खुलने के बाद से लेकर आज तक एनआरसी ऐसे ही 303 बच्चों को कुपोषण से मुक्त कराकर उनके मां-बाप के जीवन में खुशहाली दे चुका है।एनआरसी प्रभारी डॉ राम नगीना कहते हैं कि यहां पर कुपोषित बच्चों के इलाज के लिए चार श्रेणियां बनी हुई हैं जिन्हें हम स्टैंडर्ड डेविएशन (एसडी) कहते हैं जो कि बच्चे की उम्र और बाजुओं की गोलाई नापकर तय किया जाता है। 01 एसडी और 02 एसडी श्रेणी के बच्चों का इलाज स्थानीय प्राथमिक/सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर ही हो जाता है। 03एसडी श्रेणी के बच्चे एनआरसी आते हैं जबकि चौथी श्रेणी में न्यूरो और कार्डियक पीड़ित बच्चे आते हैं। उनका इलाज मेडिकल कालेज में होता है।


  उन्होंने बताया कि एनआरसी आने बच्चे की पहले दिन भूख की जांच की जाती है। बच्चे और उसकी मां को समय-समय पर खाना दिया जाता है। बच्चे की कुुुपोषण की स्थथिति के अनुसार डाइट चार्ट तैयार कर उसे पोषक भोजन दिया जाता है। साथ आने वाली मां/अभिभावक को 50 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से अलग से खाने के लिए मिलता है। बच्चे की जांच और दवा सब मुफ्त रहती है। जो दवा अस्पताल में रहती हैै, दे दी जाती है। नहीं रहती है तो खरीद कर दी जाती है। अस्पताल आने-जाने मेंं भी मरीज का कुछ खर्च नहीं होता है। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) के लोग, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, एएनएम उसे लेेेकर आते हैं और ले जाते हैं। पीड़ित परिवार का पैसा खर्च नहीं होता है।

पुलिस बल पर जानलेवा हमला करने के आरोप में पूर्व विधायक अरशद खान के विरुद्ध मुकदमा दर्ज,*


जौनपुर---
 विधानसभा चुनाव 2022 की मतगणना के दौरान हुई हिसक झड़प में पुलिस ने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी रहे पूर्व विधायक अरशद खान के विरुद्ध पुलिस बल पर जानलेवा हमला करने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

       अरशद खान का कहना है कि लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं। 

 पुलिस ने अरशद खान के विरुद्ध हत्या के प्रयास समेत अन्य कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।


      आरोप है कि मतगणना स्थल के समीप पूर्वांचल चौकी के पास अरशद खान कुछ साथियों के साथ सरायख्वाजा थाना पुलिस पर जानलेवा हमलाकर खदेड़ लिया। कार्रवाई के बारे में पूछने पर अरशद खान ने कहा कि भाजपा सरकार पुलिस का राजनीतिक इस्तेमाल समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को निशाने पर लेकर कर रही है। मेरे ऊपर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद हैं। पुलिस ने खुद साजिश रची है। पुलिस प्रशासन जिस समय की घटना दिखा रही है, उस समय मैं मतगणना केंद्र में था, न कि पुलिस चौकी के पास।

    जिला अधिकारी को पत्र लिखकर इससे अवगत कराते हुए मामले की जांच किसी उच्चाधिकारी से कराए जाने का आग्रह किया।

रोजगार मेले‘‘ में 175 को मिली नौकरी


जौनपुर---
  जिला सेवायोजन कार्यालय एवं कौशल विकास मिशन के संयुक्त तत्वाधान में निजी नियोजकों के सहयोग से 27 मई 2022 को ‘रोजगार मेला‘ का आयोजन जिला सेवायोजन कार्यालय कैम्पस जौनपुर में किया गया, जिसमें इण्टरनेशनल प्रोड्क्शन गुजरात प्रा0लि0, भारतीय जीवन बीमा निगम शाहगंज, जौनपुर शामिल हुई, मेले में प्रतिभागी अभ्यर्थियों की संख्या 392 रहीं, नियोजकों के द्वारा कुल 175 बेरोजगार अभ्यर्थियों का चयन विभिन्न पदों पर किया गया। 

              चयनित अभ्यर्थियों को जिला सेवायोजन अधिकारी ने नियुक्ति पत्र प्रदान किया एवं बधाई देते हुए भविष्य में जनपद के बेरोजगार अभ्यर्थियों को बताया गया कि आगामी 31 मई 2022 को ‘‘वृहद रोजागार मेला‘‘ का आयोजन होगा, रोजगार मेला प्रभारी शिवकुमार यादव, रामसिंह मौर्य, जीतलाल मौर्य, श्रीमती हसन फात्मा, जीशान अली, आनन्द भूषण त्रिपाठी, अजय कुमार, श्यामनारायण, एवं कौशल विकास मिशन के एम0आई0एस0 मैनेजर शिवम सिंह आदि उपस्थित रहें।

बौद्धिक संपदा को संरक्षित करने की जरूरतः प्रो. निर्मला एस. मौर्य


जौनपुर
--वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के बौद्धिक संपदा अधिकार प्रकोष्ठ और पेटेंट डिजाइन एंड ट्रेडमार्क महानियंत्रक कार्यालय के सहयोग से एक दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन शुक्रवार को आर्यभट्ट सभागार में किया गया। यह कार्यशाला आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत की जा रही है। इसमें नेशनल इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी एवरनेस मिशन(एनआईपीएएम) की ओर से बौद्धिक संपदा अधिकार के संबंध में जागरूक किया गया।


इस अवसर पर बतौर मुख्य वक्ता नई दिल्ली बौद्धिक संपदा कार्यालय के पेटेंट और डिजाइन के परीक्षक प्रशांत सिंह ने कहा कि आपीआर की विभिन्न विधाओं की जानकारी सभी को होनी चाहिए। आज पूरे विश्व स्तर पर इसकी जरूरत महसूस की जा रही है। ट्रेड मार्क का मततब टीएम ही नहीं होता जो अपंजीकृत है या आवेदन करने के बाद पेंडिंग रहती है वह उत्पाद टीएम का संकेत लगाते हैं। जो पंजीकृत होते हैं वह आर का संकेत लगाते हैं। इसी तरह उन्होंने पेटेंट और डिजाइन के विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से चर्चा की और उसके कानूनी पहलुओं पर भी बताया। उन्होंने आपीआर की विभिन्न विधाओं के बारे में विस्तृत रूप से प्रकाश डाला। इसके आवेदन की आनलाइन और आफलाइन प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भौगोलिक संकेतांक पर सबसे पहला अधिकार स्थानीय लोगों का होता है, जैसे बनारसी साड़ी का उन्होंने उदाहरण दिया। इसके बाद प्रश्नोत्तरी सत्र चला। इसमें उन्होंने शिक्षकों और विद्यार्थियों के प्रश्नों का जवाब संतोषजनक ढंग से दिया।



अपने आशीर्वचन में विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि अपने सृजन पर  हमारा ही अधिकार होता है। उन्होंने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 301 में बौद्धिक संपदा का जिक्र है। संपदा दो प्रकार की होती है एक भौतिक संपदा दूसरा बौद्धिक संपदा। हर वृक्ष का आयुर्वेद में महत्व है। यह भौतिक संपदा की श्रेणी में आता है,  हमें इन दोनों संपदा को संरक्षित करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि एक अच्छा शोधार्थी अपने सामग्री के प्रकाशन में फुटनोट्स और बिबलिओग्राफी का जिक्र करता है।



इंजीनियरिंग संकाय के डीन प्रोफेसर बीबी तिवारी ने बौद्धिक संपदा के महत्व पर विस्तार से प्रकाश डाला। कहा कि जिन डूबा तीन पाइया की कहावत लागू होती है। कहा कि आइडिया और इनोवेशन के लिए माहौल की जरूरत है।


विज्ञान संकाय के डीन प्रो. रामनारायण ने कहा कि हमें अपनी सृजन और संपदा को पेटेंट और कॉपीराइट कराने की जरूरत है। नीम और हल्दी के लिए अमेरिका से हुई कानूनी लड़ाई का जिक्र किया।



कार्यक्रम की रूपरेखा और अतिथियों का स्वागत आयोजन संचिव डा. मनीष गुप्ता ने प्रस्तुत करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय के शिक्षकों और विद्यार्थियों को इसके प्रति जागरूक करने के लिए इसका आयोजन किया गया। उन्होने कहा कि आज कापीराइट, पेटेंट, ट्रेडमार्क के प्रति सभी को जागरूक होने की जरूरत है।



कार्यक्रम का संचालन डॉ सुजीत चौरसिया और आभार डॉ सुनील कुमार ने किया। इस अवसर पर कुलसचिव महेंद्र कुमार, वित्त अधिकारी संजय राय. सहायक कुलसचिव अमृतलाल पटेल, बबिता सिंह, प्रो. वंदना राय, प्रो. अविनाश पाथर्डीकर, प्रो. अजय द्विवेदी,  प्रो.अजय प्रताप सिंह,  प्रो.रामनारायन,  प्रो.अशोक कुमार श्रीवास्तव,  प्रो. राजेश शर्मा,  प्रो.देवराज सिंह,  प्रो. संदीप कुमार सिंह,  प्रो. प्रदीप कुमार, प्रो. मुराद अली,  डॉ मनोज मिश्र,  डॉ प्रमोद कुमार यादवा,  डा. रसिकेश, डॉ. सुनील कुमार, डा. दिग्विजय सिंह राठौर, सुशील कुमार, डा. सचिन अग्रवाल,  डॉ. नीतेश जायसवाल, आशीष कुमार गुप्ता, डा. धीरेंद्र चौधरी, डा. सवर्ण कुमार आदि शामिल थे।

डीएम और एसपी ने जिला जेल का किया औचक निरीक्षण

 


जौनपुर ---  जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा एवं पुलिस अधीक्षक अजय साहनी के द्वारा जिला जेल का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान बैरकों की सघन तलाशी ली गई, तलाशी के दौरान कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिला। 

            इस दौरान अधिकारियों के द्वारा बंदियों से वार्ता कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त की गई और जेल अधीक्षक एसके पांडेय को निर्देश दिया गया कि बंदियों का इलाज की समुचित व्यवस्था रहे। 


           जेल में गर्मी में पेयजल की समुचित व्यवस्था रहे। पाकशाला में जाकर अधिकारियों के द्वारा खाने की गुणवत्ता की जांच की गई। इस दौरान जिलाधिकारी में जेल परिसर में साफ-सफाई के निर्देश दिए। 


           इस अवसर पर अपर पुलिस अधीक्षक शहर डॉ संजय कुमार, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व रामप्रकाश, क्षेत्राधिकारी सदर जितेंद्र दुबे सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

अपर सत्र न्यायाधीश ने हत्यारोपी 04 भाइयों को आजीवन कारावास , 01 लाख का दिया आर्थिक दंड


जौनपुर
-जिला अपर सत्र न्यायाधीश( चतुर्थ) प्रकाश चंद्र शुक्ला की अदालत ने थाना सिटी कोतवाली क्षेत्र के मंडी नसीब खाँ मोहल्ला निवासी 04 सगे भाइयों को हत्या के आरोप में दोषी पाते हुए आजीवन कारावास एवं 01लाख रुपए जुर्माने से दंडित किया है।

        अभियोजन कथानक के अनुसार वादी मुकदमा मनोज यादव निवासी मोहल्ला ईसापुर थाना कोतवाली ने मुकदमा पंजीकृत करवाया था कि दिनांक 31 अक्टूबर 2010 को रात 9.30 बजे वह अपने बाउंड्री के किनारे सड़क की तरफ खड़ा था उसका छोटा भाई पवन यादव सड़क पर अपने दोस्त मोनी यादव पुत्र अजय यादव व चचेरा भाई भानु यादव से बात कर रहा था तभी सब्जी मंडी की तरफ से मोहल्ले की गली में लगने वाले लाग को देखने के लिए सतीश यादव, कृष्णा उर्फ ढुलमुल यादव, सुशील यादव व श्रवण यादव पुत्रगण जवाहर यादव मुकदमा वादी के भाई पवन को जान बूझकर धक्का मार दिए और मना करने पर सतीश यादव व कृष्णा यादव चाकू और गुप्ति निकाल लिए श्रवण तथा सुशील के ललकारने पर सतीश ने अपने हाथ में लिए हुए गुप्ति से पवन के शरीर में तथा कृष्णा उर्फ ढुलमुल ने चाकू से मोनी के ऊपर प्रहार कर दिया जिससे पवन की मृत्यु हो गई और मोनी गंभीर रूप से घायल हो गया।


      पुलिस ने विवेचना कर के आरोप पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता आशीष सिंह के द्वारा परीक्षित कराए गए गवाहों के बयान एवं पत्रावली पर उपलब्ध साक्ष्यों के परिसीमन के पश्चात अदालत ने चार सगे भाइयों सतीश कुमार यादव, श्रवण कुमार यादव, कृष्ण कुमार यादव व सुशील कुमार यादव को भादंवि की धारा 302 के अंतर्गत हत्या के आरोप में दोष सिद्ध पाते हुए आजीवन कारावास एवं एक एक लाख रुपए अर्थदंड से दंडित किया। अदालत ने अर्थदंड की धनराशि में से दो लाख रुपए मृतक पवन के पिता विद्या शंकर यादव को एवं 40 हजार रुपए घायल मोनी उर्फ संदीप यादव को देने का भी आदेश दिया।

जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा के द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सुईथाकला का निरीक्षण किया गया।


जौनपुर
 -- निरीक्षण के दौरान चिकित्सा अधिकारी डॉ० सुर्य प्रकाश से दवाओं की उपलब्धता के संबंध में जानकारी प्राप्त की और निर्देशित किया की अस्पताल में उपलब्ध दवा ही मरीजों को लिखा जाय। जिलाधिकारी ने स्टाफ नर्स से जानकारी प्राप्त की कि  यहां पर कितनी डिलीवरी प्रतिदिन हो जाती है जिस पर स्टाफ नर्स द्वारा बताया गया कि प्रतिदिन 2-3 डिलीवरी प्रतिदिन हो जाती है। महिला वार्ड के निरीक्षण के दौरान प्रसूताओ को परिवार नियोजन के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने प्रसूताओ से पूछा कि स्वास्थ्य केंद्र में खाना - पानी एवं दवाई मिल रही है कि नहीं जिस पर सभी के द्वारा बताया गया कि स्वास्थ्य केंद्र पर उन्हें किसी भी प्रकार की समस्या नही है।

     जिलाधिकारी ने प्रसूताओं को बताया कि बच्चे को 6 माह तक अपना दूध अवश्य पिलाएं जिससे बच्चे को शारीरिक और मानसिक मजबूती मिल सके। वार्ड बॉय से जानकारी प्राप्त की कि उन्हें किसी प्रकार की समस्या तो नहीं है जिसके संदर्भ में वार्ड बॉय द्वारा बताया गया कि उसे किसी प्रकार की असुविधा नहीं है।     

     जिलाधिकारी द्वारा जनरल वार्ड, लेबर वार्ड सहित विभिन्न वार्डों का गहनता से निरीक्षण किया गया ।

         जिलाधिकारी के द्वारा वैक्सीन के रख-रखाव की जानकारी प्राप्त की गई।  

       इस अवसर पर जिला विकास अधिकारी बी०बी० सिंह, स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित रहे।

डीएम के निर्देश पर मड़ियाहू में शराब की दुकानों पर चलाया चेकिंग अभियान


जौनपुर
- जिलाधिकारी मनीष वर्मा के निर्देश पर  मड़ियाहूं तहसील क्षेत्र मेंपुलिस अधीक्षक जौनपुर के निर्देशन में उप जिलाधिकारी मड़ियाहूं अर्चना ओझा तथा आबकारी निरीक्षक बसंत लाल प्रभारी निरीक्षक् के0के0चौबे तथा दर्जनों पुलिस के जवानद्वाराआज अंग्रेजी व देशी शराब की दुकानों का सघन चेकिंग अभियान चलाया।

पी0 डी0 ने विधायक की शिकायत पर कमीशन की भेंट चढ़ी खराब हो चुकी सोलर लाइटो की जांच..की, मिला गड़बड़झाला


जौनपुर
- सी0 डी-ओ0 के  निर्देश पर परियोजना निदेशक अरविंद सिंह ने विधायक रमेश मिश्रा की शिकायत पर वर्ष 2001 2322 में विधायक निधि से लगाई गई खराब हो चुकी सोलर लाइट की मौके पर जाकर जांच की, जांच उपरांत खराब गुणवत्ता होने के चलते सभी सोलर लाइट बंद पाई गई, जो कार्यवाही का विषय है। मिली खबरों के अनुसार बदलापुर विधानसभा में वर्ष 2021 22 में विधायक निधि से लगाई गई सोलर लाइट जो ब्लॉक स्तर के अधिकारियों व ग्राम पंचायत अधिकारियों की अपने दायित्वों के प्रति उदासीनता के चलते गुणवत्ता विहीन होने के नाते खराब पाई गई।

मुख्य विकास अधिकारी अनुपम शुक्ला के निर्देश पर परियोजना निदेशक अरविंद सिंह ने खंड विकास अधिकारी सरस श्रीवास्तव एडीओ पंचायत रणजीत सिंह तथा डीआरडीए के सहायक चर्चित अभियंता कमलेश श्रीवास्तव के साथ मौके पर जांच की और जांच उपरांत शिकायत सही पाई गई। अब सवाल यह है कि कमीशन खोरी के चलते गुणवत्ता विहीन सोलर लाइट लगाने की सहमति देने वाले क्या जिम्मेदार अधिकारियों/ कर्मचारियों के विरुद्ध जिले के आला कमान अफसर शासकीय हित में आवश्यक कार्रवाई करेंगे यह एक यक्ष प्रश्न है?

कलेक्ट्रेट विकास भवन के सटे रोड पर कूड़े के ढेर पर सूअरों का जमावड़ा, संक्रामक बीमारी फैलने की आशंका जिम्मेदार बेखबर

 


बोलती तस्वीर/-- जौनपुर कलेक्ट्रेट परिसर के भीतर विकास भवन के दाहिने तरफ नवनिर्मित शौचालय के सामने जिम्मेदार अधिकारियों की उदासीनता के चलते  कूड़े कचरे के ढेर पर सूअरों का जमावड़ा लगा रखा है जिससे संक्रामक बीमारी फैलने की आशंका है। हैरत की बात यह कि जहां एक तरफ केंद्र और प्रदेश की सरकार स्वच्छता अभियान पर फोकस कर रही है वही जिम्मेदार अधिकारियों को उदासीनता के चलते विकास भवन व कलेक्ट्रेट बार आने वाले आम लोग ,कलेक्ट्रेट के अधिवक्ता कभी भी संक्रामक बीमारी की चपेट में आ सकते हैं। बता दे की विकास भवन के सामने ठेले पर दुकान लगाने वाले, कलेक्ट्रेट बार द्वारा आवंटित की गई दुकानों के लोग  नित्य दिन शाम को कूड़े का ढेर लगा देते हैं जबकि ठीक बगल में जिले के मुख्य विकास अधिकारी का कार्यालय है दूसरी तरफ जिला चकबंदी अधिकारी का न्यायालय है।

सूत्र बताते हैं कि कलेक्ट्रेट बार एसोसिएशन दुकानों को आवंटित कर दुकानदारों से किराया तो वसूली करता है लेकिन इसके बदले में लोगों को कूड़ाऔर गंदगी के ढेर के बीच में रहना पड़ता है। जानकारों की माने तो कलेक्ट्रेट बार एसोसिएशन की जिम्मेदारी बनती है जब वह आवंटित दुकानदारों से किराया वसूली करते हैं, यह भी जिम्मेदारी बनती है कि बजबजाती नाली और गंदगी से लोगों को निजात दिलाएं। अब देखना है कि  जिम्मेदार लोग क्या करते हैं।

डीएम ने मेडिकल कॉलेज का किया औचक निरीक्षण

 


जौनपुर -  जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा के द्वारा मेडिकल कॉलेज का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान कार्य प्रगति की जानकारी प्राप्त की गई। उन्होंने कार्यदाई संस्था को निर्देशित किया कि द्वितीय वर्ष की कक्षाओं को चलाने के लिए जो भी आधारभूत सुविधाएं होती हैं, उन्हें 15 दिन के भीतर अनिवार्य रूप से पूर्ण कर लिया जाए और प्रथम एलओपी के अनुसार कार्य  पूर्ण कराये जाएं। 

              इस अवसर पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट हिमांशु नागपाल, जिला विकास अधिकारी बी.बी. सिंह, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी आर.डी. यादव सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

*मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत राजकीय बालिका इंटर कॉलेज जौनपुर में बालिकाओं को 45 दिवसीय ताइक्वांडो प्रशिक्षण अभियान की शुभारंभ


 जौनपुर - मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा एवं मुख्य विकास अधिकारी अनुपम शुक्ला के निर्देशन में जिला प्रोबेशन अधिकारी अभय कुमार के तत्वाधान में  24 मई 2022 को राजकीय बालिका इंटर कॉलेज जौनपुर में बालिकाओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए जाने हेतु उन्हें सुरक्षा में आत्मनिर्भर बनाने हेतु ताइक्वांडो का प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।


          यह प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रशिक्षक के रूप में संजीव कुमार साहू एवं उनकी टीम को नामित किया गया है। यह टीम बालिकाओं को 45 दिवस तक लगातार ताइक्वांडो का प्रशिक्षण प्रदान करेगी, जिसके पश्चात बालिकाओं को ताइक्वांडो में जौनपुर ताइक्वांडो एसोसिएशन की तरफ से येलो बेल्ट प्रदान किया जाएगा।

*राशन कार्ड सरेंडर अथवा रिकवरी का कोई आदेश नहीं: खाद्य आयुक्त


 लखनऊ --उत्तर प्रदेश सरकार ने रविवार को साफ किया है कि प्रदेश में राशन कार्ड सरंडेर करने अथवा उनके निरस्तीकरण के सम्बन्ध में कोई नया आदेश जारी नहीं किया गया है।

        मीडिया पर इस संबंध में प्रसारित भ्रामक व तथ्यों से परे खबरों का खण्डन करते हुए राज्य के खाद्य आयुक्त सौरव बाबू ने कहा कि राशनकार्ड सत्यापन एक सामान्य प्रक्रिया है जो समय समय पर चलती है। उन्होंने कहा कि राशन कार्ड सरेंडर करने और पात्रता की नई शर्तों के संबंध में आधारहीन प्रचार हो रहा है।


       सत्यता यह है कि पात्र गृहस्थी राशनकार्डों की पात्रता / अपात्रता के सम्बन्ध में सात अक्टूबर, 2014 के शासनादेश के मानक निर्धारित किए गए थे जिसमें वर्तमान में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है।

सीएम योगी का फिर गरज बुलडोजर , सिद्धिपुर में जिला उद्योग केंद्र की जमीन पर अवैध कब्जा कर बनाई गई 42 दुकानों को किया गया जमीन दोज,पूरे इलाके में हड़कंप,*


जौनपुर
।*सीएम योगी के बुलडोजर का कहर जिला उद्योग केन्द्र की एक एकड़ की भूमि पर अवैध रूप से कब्जा करके बनायी गयी 42 दुकानों पर बरपा। जमीन की कीमत सात से आठ करोड़ रूपये बतायी जा रही है।

       बुलडोजर के गरजने से जहां पूरा इलाका दहल गया वही अन्य अवैध कब्जेदारों को हिलाकर रख दिया। 

       जनपद के सरायखाजा थाना क्षेत्र के सिद्दीकपुर गांव में जिला उद्योग केन्द्र की एक एकड़ जमीन को करीब 25 वर्षो से कब्जा करके स्थानीय लोगो ने दुकान बनाकर अपना व्यापार करते चले आ रहे थे। 


    जिला उद्योग विभाग ने कई बार इन दुकानदारो को नोटिस देकर जमीन खाली करने को कहा था लेकिन ये लोग जमीन को खाली नही किया। शनिवार को ज्वाइंट मजिस्ट्रेट व एसडीएम सदर हिमांशू नागपाल (आई0ए0एस0)  भारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचकर जेसीबी मशीन के माध्यम से सभी दुकानों को ध्वस्त करा दिया। बुलडोजर चलने से पूरे इलाके में हड़कंप मच गया। 

       उप जिला मजिस्ट्रेट हिमांशु नागपाल के मुताबिक् जिला उद्योग केन्द्र सिद्दीकपुर की एक एकड़ जमीन पर स्थानीय लोगो ने कब्जा करके कुल 42 दुकाने बनाकर अपना कारोबार करीब 25 वर्षो से कर रहे थे। विभाग ने कई बार अपनी जमीन खाली करने के लिए नोटिस दिया था लेकिन इन लोगो ने जमीन खाली नही किया। जिसके कारण आज सभी दुकानों को ध्वस्त कराकर जमीन को खाली करा दिया गया है। जिला प्रशासन की इस कार्यवाही जनपद के भू माफियाओं में हड़कंप मच गई है।

सीएमओ ने मड़ियाहूं सीएचसी का निरीक्षण किया, बोलीं महीने में कम से कम पांच आपरेशन होने चाहिए





आपरेशन थियेटर में एसी लगवाने तथा इलेक्ट्रिक सेक्शन मशीन की व्यवस्था कराने का निर्देश




जौनपुर
 ---मछलीशहर में अनुपस्थित डॉक्टर को कारण बताओ नोटिस जारी करने के बाद आज शनिवार को मुख्य चिकित्साधिकारी (सीएमओ) डॉ लक्ष्मी सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) मड़ियाहूं पहुंचीं। यहां भी सबसे पहले उन्होंने उपस्थिति पंजिका देखी, जिसमें से डॉ गुंजा गुप्ता (नियमित स्टाफ), वंदना मिश्रा (संविदा कर्मचारी) तथा स्वास्थ्य पर्यवेक्षक श्यामदेई अनुपस्थित मिले। तीनों लोगों के सामने अनुपस्थित दर्ज कर कारण बताओ नोटिस जारी किया। 


    इसके बाद वह आपरेशन थियेटर (ओटी) में गईं और कर्मचारियों को चीजें व्यवस्थित कर रखने को कहा। उन्होंने कहा कि यह प्रथम संदर्भन इकाई (एफआरयू) है। इसलिए महीने में कम से कम पांच आपरेशन होने चाहिए। उन्होंने पैरों से संचालित सेक्शन मशीन देखा और बोलीं, यहां पर एक इलेक्ट्रिक सेक्शन मशीन भी होना चाहिए जिसकी व्यवस्था करने के लिए पत्राचार किया जाए। आपरेशन के सारे इक्वीपमेंट स्टेरलाइज होने चाहिए। आपरेशन थियेटर में एसी नहीं लगा था जिस पर उन्होंने एसी लगवाने का निर्देश दिया।


 


   इसके बाद वह प्रसव कक्ष पहुंचीं। वहां हो रहे प्रसव को ध्यान में रखते हुए अंदर नहीं गईं। बाहर से ही स्टाफ को निर्देश दिया, यदि कोई दिक्कत हो तो जिला मुख्यालय से सामान की मांग करिए। एक्स-रे रूम में भी गईं और पूछा इससे एक्स-रे होता है? स्टाफ ने बताया कि एक्स-रे मशीन काम करती है। निरीक्षण के समय डॉ दिवा त्यागी, डॉ शाहिद अख्तर, इम्युनाइजेशन आफिसर विनोद कुमार मौर्या, कुष्ठ रोग विभाग में रमेश गौड़, फार्मासिस्ट उदयभान यादव, स्टाफ नर्स माधुरी देवी, अमरावती और तेतरादेवी, नेत्र परीक्षण अधिकारी राजेश कुमार कनौजिया सहित कई अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे। 

मुख्य विकास अधिकारी ने हरी झंडी दिखाकर कृषक भ्रमण दल को किया रवाना


    जौनपुर -  कृषि भवन परिसर से शनिवार को मुख्य विकास अधिकारी अनुपम शुक्ला ने जनपद में गठित कृषक उत्पादन संगठनों के 15 प्रगतिशील कृषको को पतंजलि योगपीठ के ऑर्गेनिक रिसर्च प्रशिक्षण सेंटर के लिये रवाना किया। यह भ्रमण दल 22 से 24 मई तक पतंजलि रिसर्च सेंटर पर एफपीओ को वेहतर उत्पादन, प्रॉसेसिंग, ग्रडिंग, पैकेजिंग, भंडारण, मार्केटिंग, गौशाला प्रबंधन आदि से प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे।

              भ्रमण दल को रवाना करते हुए सीडीओ ने बताया कि जनपद के किसान पतंजलि रिसर्च सेंटर पर भ्रमण कर आमदनी बढ़ाने के तौर तरीकों को सीखकर कृषि के सतत विकास में योगदान करेंगे।


  आत्मा योजनान्तर्गत अंतराज्यीय कृषक भ्रमण दल के साथ उप कृषि निदेशक जय प्रकाश, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डा. राजेश कुमार, अपर जिला कृषि अधिकारी रमेश चंद्र यादव प्रशिक्षण में सहयोग करेंगे। भ्रमण दल में योजना सहायक शरद पटेल, संध्या सिंह, दुर्गा मौर्या, अमित सिंह, जयन्त सिंह, ज्ञान तिवारी, कमलेश यादव, विसाल सिंह, आदि प्रगतिशील कृषक रवाना हुए।

बाइक सवार बदमाशों ने व्यापारी को मारी गोली,, चिकित्सकों ने बेहतर इलाज हेतु वाराणसी किया रेफर ,पुलिस मामले की जांच में जुटी

 

   


     जौनपुर -जनपद के बक्सा थाना क्षेत्र के मई गांव में हौसला बुलंद बाइक सवार बदमाशों ने एक व्यापारी को गोली मारकर असलहा लहराते निकल भागे । घटना  आज शुक्रवार दिन के करीब 11 बजे की है।  मिली खबरों के अनुसार स्वतंत्र कुमार मिश्रा उर्फ मोनू 28 वर्ष पुत्र सुरेंद्र कुमार मिश्रा अपने बिल्डिंग मटेरियल की दुकान पर मौजूद थे। उसी समय वह पेशाब करने के लिए दुकान के  बगल स्थित नाली के पास गए थे ,तभी अप्रत्याशित तरीके से अचानक एक बाइक पर सवार दो युवक आए और व्यवसाई मिश्रा को लक्ष्य साध कर एक-एक कर कई फायर झोंक दिया। फायरिंग के दौरान के  एक गोली मिश्रा के पैर के दाहिने घुटने के नीचे जा लगी। गोली लगते ही स्वतंत्र कुमार मिश्रा उर्फ मोनू मिश्रा जमीन पर गिर पड़ा और दर्द से तड़पडने लगा।

      ताबड़तोड़ हुई इस फायरिंग की घटना के बाद पूरे मई बाजार में हड़कंप मच गया , जिससे दहशत में आए दुकानदारों ने अपनी दुकानें बंद कर दीं, इस वारदात के बाद पूरे इलाके में दहशत का माहौल हो गया । इधर वारदात को अंजाम देने के बाद फायरिंग करने वाले बाइक सवार बदमाश हवा में   

असलहा लहराते हुए मौके से फरार हो गए। 


    घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस घायल को जिला अस्पताल ले गई जहां से चिकित्सकों ने बेहतर उपचार के लिए उसे *वाराणसी बीएचयू के लिए रेफर कर दिया। मौके पर भारी मात्रा में पुलिस फोर्स तैनात की गई है और अपराधियों  की सरगर्मी से तलाश में पुलिस गई है।