health

Breaking News

जौनपुर में भीड़ की तालिबानी सजा देखिये लाइव पिटाई का वीडियो 24UPNEWS.COM पर

पत्रकार को फोन पर दरोगा ने झूठे अपराध में फंसा देने की दी धमकी

दरोगा के इस बर्ताव से पत्रकारों में आक्रोश , एसपी ने मामले की जांच के लिए सीओ सिटी को सुपुर्त किया*
जौनपुर-अपराधी की तरह  एक मामले के आईओ दरोगा ने पत्रकार को फंसाने की धमकी दिया। जफराबाद थाना क्षेत्र के गद्दीपुर गांव में एक युवती भगाने के एफ आई आर के मामले में पीड़ित के परिजनो से पूछताछ करना दरोगा को नागवार लग गया। दरोगा ने पूछताछ करने वाले पत्रकार को फोन पर अपराध में फंसा देने की धमकी दे दी। मामले की जानकारी पत्रकारों ने पुलिस अधीक्षक को दिया। पुलिस अधीक्षक ने मामले की जांच क्षेत्राधिकारी को सुपुर्द किया है।

मामला रविवार का है, थाना क्षेत्र के गद्दीपुर की एक युवती को पड़ोसी गांव के युवक द्वारा भगा ले जाने का मामला रविवार को जफराबाद थाने पर आया। युवती के परिजनों की तहरीर के आधार पर जफराबाद पुलिस ने युवक के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर लिया। तहरीर पर पीड़ित पक्ष वादी के लिखे गए मोबाइल नंबर तथा एफ आई आर पर दर्ज मोबाइल नंबर पर पत्रकार ने मामले की जानकारी के लिए फोन किया। उक्त बात की सूचना मामले के जांच अधिकारी विनोद सचान को हुई। रविवार को शाम इस मामले के आई ओ विनोद सचान ने पत्रकार के मोबाइल पर फोन लगाया। पत्रकार से उन्होंने पूछा कि तुमने वादी को फोन क्यों लगाया। पत्रकार ने कहा क्यों पीड़ित से उसकी पीड़ा के बारे में पूछने के लिए फोन नहीं लगा सकता क्या ? दरोगा जी ने कहा कि मुकदमा नहीं हुआ तो फोन क्यों लगाया। पत्रकार ने मुकदमा पंजीकृत होने का दावा किया। दरोगा साहब ने पूछा कि किसके खिलाफ मुकदमा हुआ है। पत्रकार ने जवाब दिया कि आप थाने के सब इंस्पेक्टर हैं तो आपको पता ही होगा। दरोगा ने कहा कि मैं ही इस केस का आई ओ हूं। पत्रकार ने कहा बताइए आपको दिक्कत क्या है। फोन किस लिए किये हैं। दरोगा ने धमकी भरे लहजे में कहा कि दिक्कत हमको नहीं दिक्कत तुमको कर दूंगा। पत्रकार ने पूछा किस बात की दिक्कत करेंगे। पीड़ित की पीड़ा जानने के लिए फोन करना कौन सा अपराध है। जवाब में दरोगा ने पत्रकार को धमकी दिया कि अपराध नहीं है, लेकिन अपराध बना दिया जाएगा। धमकी देकर फोन काट दिया। इस तरीके की हरकत  पत्रकारों के साथ पुलिस के मन बढ़ दरोगा, बेलगाम, बेअन्दाज,अपराधियों की तरह पेश आ रहे हैं। उक्त बात की जानकारी मोबाइल फोन से तत्काल मौखिक तौर पर पत्रकार ने पुलिस अधीक्षक को दिया, तथा दरोगा द्वारा मोबाइल फोन पर पत्रकार को दी जाने वाले धमकी की वॉइस रिकॉर्डिंग भी पुलिस अधीक्षक को दे दिया। पुलिस अधीक्षक ने दरोगा  द्वारा दी जाने वाली धमकी की वॉइस रिकॉर्डिंग सुनने के बाद मामले की जांच के लिए सीओ सिटी को सुपुर्द कर दिया है।

....मेरे बच्चे का मिसिंग कंप्लेंट दर्ज कर लो दरोगा साहब।

जफराबाद कस्बे का रिक्शा चालक,लापता बेटे की मिसिंग कंप्लेंट के लिए छ: दिन से थाने पर लगा रहा चक्कर।
साभार अखिलेश सिंह
जफराबाद (जौनपुर) बड़े बाप की औलाद होता तो तत्काल थाने पर सुनवाई भी होती और कार्रवाई भी। यहां तो मामला रिक्शा चलाने वाले मजदूर का है। ऐसे गरीब के मामले में भला साहब क्यों रुचि लें। पिछले छ: दिन से मजदूर एवं मजबूर बाप अपने बेटे की मिसिंग कंप्लेंट के लिए थाने पर चक्कर लगा रहा है, लेकिन साहब को फुर्सत ही नहीं। छ: दिन से उसे टरकाया तथा दौड़ाया जा रहा है। पुलिस की यह कार्य शैली विभाग के प्रति जनता में विश्वास के लिए घातक साबित हो रहा है, इस बात से इनकार नही किया जा सकता। वहीं रोज तमाम ऐसे कंप्लेन आते हैं, जिसमे हजूर को आगम दिखाई देता है, खूब रुचि लेते हैं। आगम वालो को करवाई की खूब बनर घुड़की भी देते है, आशय तो कुछ और ही होता है, ये तो आप समझ ही रहे होंगे।

हम बात कर रहे हैं नगर पंचायत जफराबाद के मोहल्ला नासही, दलित बस्ती के रिक्शा चालक, घूरे राम की। इनका 12 वर्षीय पुत्र पिंटू उर्फ करिया पिछले चार जुलाई को दिन में दोपहर दो बजे साइकिल चलाने के लिए घर से निकला और साइकिल सहित लापता हो गया। घूरे राम चार दिन तक दूरदराज के सभी रिश्तेदारों में उसको तलाशने की कोशिश किया। सफलता हाथ नहीं लगी तो वह पांच जुलाई को थाने पर अपने बेटे के मिसिंग कंप्लेंट के लिए पहुंचा। पहले दिन थाने पर दिवान ने मिसिंग कंप्लेंट की प्रक्रिया में गायब बेटे के फोटो की कई प्रकार की साइज में फोटो बनवाकर लाने के लिए कहा। दूसरे दिन कई प्रकार कि साइज में फोटो बनवाकर थाने पहुंचा तो उसे मिसिंग कंप्लेंट का प्रोफार्मा देकर बाहर किसी कंप्यूटर की दुकान से तैयार कराने को कहा। बाजार के कंप्यूटर की दुकान पर उसने सात सौ रुपये खर्च करके पुलिस के द्वारा बताए गए आदेश के अनुसार तमाम प्रति में प्रोफार्मा तैयार करवाया। तीसरे दिन उक्त सभी कागजात तथा फोटो लेकर थाने पर पहुंचा तो उसे बताया गया कि बड़े साहब नहीं है, अगले दिन बुलाया। चौथे दिन पहुंचा तो उसे बताया कि कंप्यूटर खराब हो गया है। उसे वापस लौटा दिया। इस प्रकार पिछले छ: दिन से गायब पुत्र की पीड़ा को लेकर एक मजदूर बाप थाने पर सुबह से लेकर शाम तक साहब लोगों से मदद मांगने को लेकर पूरा पूरा दिन बिना खाए पिए थाने पर गुजार दे रहा है। गायब बेटे को खोजने की बात तो दूर कंप्लेंट न लिखने तथा आनाकानी करने वाले इस महकमे की कार्यशैली पर चिंता तथा अफसोस होने लगा है। छठवें दिन बुधवार को भी उसकी कंप्लेंट दर्ज नहीं की गई। पुलिस से ना उम्मीद होकर घूरे राम अपने आंख में बच्चे के गम का आंसू लेकर रोते हुए घर वापस हो गया। इन पुलिस वालों को क्या हो गया है ? क्या इस विभाग के इन जिम्मेदारों को ऐसे  लाचारों के मामलों मे कोई रुचि नही रह गई ? जबकि दिन भर साहब लोग, तमाम ऐसे मामले होते हैं, जिसको बहुत ही गंभीरता व तत्परता के साथ रुचि लेकर अंजाम देते हैं। उसके पीछे तो कारण कुछ और ही होता है। रुचि क्यों और किस प्रकार की होती है आप भुक्तभोगी होंगे तो समझ रहे होंगे या भुक्तभोगीयों के मुंह से सुनते ही होंगे। क्या यह कहना गलत होगा कि पुलिस की इस तरह की कार्यशैली से आम लोगों का भरोसा उठता चला जा रहा है ?

युवक ने युवती के साथ किया गन्दी हरकत और मारपीट का प्रयास,खबर लिखने के बाद हरकत में आयी पुलिस

जौनपुर में इन दिनों अपराधियों के हौसले बुलंद है जिनको कानून का तनिक भी भय नही है,दिनदहाड़े लूट , हत्या , रंगदारी जैसे मामले तो आम हो गए है लेकिन इन दिनों शोसल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वॉयरल हो रहा है जिसमे एक युवक दिन दहाड़े एक युवती के साथ अश्लील हरकत करने का प्रयास करता है और उस घटना का वह अपने एक साथी वीडियो भी बनवाता है,फिलहाल यह वीडियो तीन दिन पुराना बताया जा रहा है जिसमे एक एस सी लड़की के साथ एक एससी लड़का जबरदस्ती हरकत करते हुए वीडियो वॉयरल हो रहा है, मीडिया में खबर लगते ही स्थानीय पुलिस हरकत में आती है और गांव में जाकर आरोपी युवक को दबिश देकर गिरफ्तार करके थाने में ले आयी है और आरोपी को परिजनों की तहरीर के अनुसार पुलिस उचित कार्यवाही में जुट गई है।
बता दें कि जनपद के जफराबाद थाना क्षेत्र के एक गांव का मामला है जहां तीन दिन पुराना एक वीडियो तेजी से वॉयरल हो रहा है जिसमे एक एससी युवक गांव के ही एक एससी युवती से जबरदस्ती अश्लील हरकत करने का प्रयास करती है और आरोपी का एक साथी घटना का वीडियो बना रहा है,मीडिया का संज्ञान लेते हुए एसपी ने मय फोर्स गांव में जाकर आरोपी युवक को थाने ले आती है ।

शार्ट सर्किट से तीन बीघा गेहूं की फसल जल कर खाक,रेलवे क्रासिंग के कारण घण्टो देरी से पहुची फायर ब्रिगेड की गाड़ी

जौनपुर -जनपद के जफराबाद थाना क्षेत्र के शाहबड़े पुर गांव में आज शाम बिजली के शॉर्ट सर्किट से गेहूं के बोझ में अचानक आग लग गई। जिससे खेत में रखा छ सौ गेहूं  की बोझ जलकर राख हो गया। आग बुझाने के लिए सूचना के बाद डेढ़ घंटे बाद फायर ब्रिगेड पहुंची जबकि इसके पहले नगर पंचायत के टैंकर से नगर पंचायत के कर्मचारियों तथा पुलिस एवं ग्रामीणों ने   आग पर काबू करने का प्रयास किया था।
बताते है कि उक्त गांव निवासी राजबली यादव अपने तीन बीघा खेत से गेहूं फसल काटकर एक जगह लगभग छ सौ बोझ गेहूं इकट्ठा कर थ्रेसर से दवाई करने की तैयारी कर रहे थे।   दोपहर ट्रैक्टर आया, थ्रेशर से दवाई होने जा रहा था, तभी अचानक ऊपर से गुजरे हाईटेंशन तार से शॉर्ट सर्किट हुआ और आग की चिंगारी गेहूं के बोझ पर गिरा। जब तक लोग कुछ समझ पाते तब तक आग विकराल रूप धारण कर जलने लगा। गांव के किसान तथा पास में मौजूद खेतसराय थाना क्षेत्र गुरैनी बाजार के पीछे गेहूं खेत मे अचानक आग लग गयी मौके पर पहुची  पुलिस बल ने आग को बुझाने का बहुत प्रयास किया लेकिन सफलता नहीं मिल पाई। सूचना के डेढ़ घंटे बाद बाद फायर ब्रिगेड की टीम पहुंची।  तब तक सब कुछ जलकर राख हो चुका था। उधर दूसरी आग लगने की सूचना लग गयी दबी चिंगारियों को बुझाने का काम फायर ब्रिगेड की टीम ने किया। फायर ब्रिगेड के  आग लगने की सूचना के बाद  गाड़ी लेकर निकल चुके थे लेकिन जफराबाद रेलवे फाटक पर पांच गाड़ियां गुजारने के बाद फाटक खुला। एक घंटे रेलवे फाटक खुलने का इंतजार करना पड़ा। फायर ब्रिगेड के वाहन का लगातार सायरन बजाया जा रहा था,लेकिन रेलवे के कर्मचारियों ने थोड़ी भी सहूलियत नहीं दिखाई और एक के बाद एक करके पांच गाड़ियां गुजारने के बाद ही रेलवे फाटक खोला गया। जिसके कारण घटनास्थल पर पहुंचने में विलंब हुआ।  घटना में राजबली यादव का तीन बीघा तथा सुखराम प्रजापति का एक बीघा खड़ी फसल जलकर राख हो गया।

जौनपुर के अपराधी हुए बेलगाम एक और पल्सर बाइक लूट की घटना को अंजाम देकर हुए फरार

जौनपुर-अपराधियों के हौसले बुलंद बाइक सवार बदमाशों ने असलहे के बल से आतंकित कर एक पल्सर बाइक और मोबाइल फोन लूट कर हुए फरार,केराकत थाना क्षेत्र के बेलाव पुल के समीप की घटना,पुलिस नाकेबंदी में लगी।
     बता दें कि एक तरफ कप्तान जितना ही अपनी टीम को नए नए फरमान कर कुछ नया कर अपराध पर रोक लगाया जा सके,अपराधी है वो कहावत चरितार्थ कर रही है तू डाल डाल में पात पात उसी तर्ज पर जौनपुर के अपराधी कर रहे है, जहां पुलिस एक तरफ खुलासा करते है तो शाम होते होते एक नए घटना को अंजाम दे कर पुलिस के लिए सिर दर्द बन जाता है, अब ये देखना है नवागत एसपी आशीष तिवारी कब तक अपराधियो पर लगाम लगा सकते है ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा जो भविष्य के गर्त में छिपा है।

जिले में लगातार हो रही हत्याओं से थर्राया जौनपुर ,अचानक क्राइम का पारा चढ़ा,जिम्मेदार मौन ?

जौनपुर-दबंगो ने दिया हत्या को अंजाम, पैसे के लेनदेन को लेकर हुए विवाद के चलते दो युवको ने एक व्यक्ति को लाठी और डंडो से मारकर उतारा मौत के घाट,5800 रुपये के लेनदेन में हुई गोरख की हत्या, प्रत्यक्षदर्शी ने पुलिस के सामने आरोपियों का नाम किया उजागर, मामले की जांच में जुटी पुलिस,जफराबाद थाना क्षेत्र का मामला,पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच में जुटी, सीओ सिटी नृपेंद्र कुमार और एसओ जफराबाद मय फोर्स मौके पर पहुँच कर जांच जुट गए, मौके एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया दो युवको ने करीब आधे घण्टे तक शराब पीकर मारा पीटा, दोनों युवकों के एक युवक शराब सेल्समैन और एक युवक जो बरसठी का बताया जा रहा है,फिलहाल पुलिस परिजनों की तहरीर के आधार पर आगे कार्यवाही होगी।

दो जून की रोटी के लिए विदेश गए व्यक्ति की सैलरी मांगने पर हत्या का आरोप,पीड़ित परिजन ने थाना व डीएम आवास पर दिया परिजनों ने धरना

जौनपुर जफराबाद थाना क्षेत्र के मोथहा गांव निवासी रामसूरत निषाद सूडान में नौकरी कर रहे थे जहां बीते 12 तारीख को  इनकी  सन्दिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई मौत की जानकारी मिलते ही परिजन परेशान हो  गए। आज सुबह परिजन दिल्ली से शव को लेकर  जफराबाद  थाने पहुँचे और शव का दोबारा पोस्टमार्टम कराने की बात कहने लगे थाने पर सुनवाई न होने पर डीएम पहुँचे गए और  पोस्टमार्टम कराने की बात करते हुए घेराव कर दिया । डीएम आवास के घेराव की जानकारी मिलते ही एसडीएम मंगलेश दुबे ने मौके पर पहुंचकर कमान संभाली और परिजनों ग्रामीणों को आश्वासन देते हुए जफराबाद थाना अध्यक्ष को लीगल कार्रवाई करने के लिए निदेश दिया ।
जिला अधिकारी आवास पर घेराव की सूचना मिलते ही एसडीम मंगलेश दुबे भी मौके पर पहुंचकर कमान संभाली और परिजनों को ग्रामीणों को समझाते हुए जफराबाद के थानाध्यक्ष को अग्रिम कार्रवाई करने का आदेश दिया। इस संबंध में एचडी मंगलेश दुबे ने बताया कि रामसूरत निषाद मथुरा गांव के निवासी है इनकी सूडान में मौत हुई है परिवार वाले दोबारा पोस्टमार्टम की बात कह रहे हैं इसके लिए जफराबाद थाना थानाध्यक्ष को लीगल कार्रवाई के लिए आदेश कर दिया गया है हत्या की बात के बाबत उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।
संतोष कुमार ने बताया कि 12 तारीख को इनकी अंतिम बार बात हुई थी। जिस कंपनी में नौकरी करते थे उस कंपनी के मालिक द्वारा बराबर उनको परेशान किया जाता रहा और तनखा भी नहीं दिया जा रहा था जिस से परेशान होकर उन्होंने घर पर फोन किया था और कहा था कि अब हमारे आने की उम्मीद नहीं है हम लोग लाश लेकर जौनपुर पहुंचे हैं हम चाहते हैं कि इसका सरकारी डॉक्टर द्वारा फिर से पोस्टमार्टम कराया जा सके जिससे यह स्पष्ट हो सके की मौत कैसे हुई है हम लोगों को विश्वास है कि उन्होंने आप आते नहीं किया बल्कि उनकी हत्या की गई है
मृतक के बेटे सचिन कुमार का कहना है कि उनके पिता की हत्या की गई है हम लोग जिलाधिकारी आवास पर आए हैं लाश का  पोस्टमार्टम  कराई जाए जिससे ये मालूम हो कि उनकी हत्या हुई है । जिससे उनको न्याय मिल सके ।
फिलहाल इस तरह का जनपद में लोगों ने तो आज़मगढ़ में विदेश में सैलरी न मिलने से तीन लोगों की गई जान,अब देखना यह है कि जिला प्रशासन और विदेश मंत्रालय कितना इन गरीबो को न्याय दिलाता है जो घर छोड़कर दो जून की रोटी के लिए विदेश कमाने के लिए गए थे।

जफराबाद पुलिस हिरासत से वाहन चोर चकमा देकर फरार,पुलिस महकमे में हड़कम्प

जौनपुर- ग्रामीणों की मदद से वाहन चोर को किया था पुलिस के हवाले,पुलिस हिरासत से वाहन चोर शौच के बहाने थाना परिसर से फरार,पुलिस आरोपी चोर के खिलाफ ने उचित धाराओं में मुदकमा पंजीकृत कर सरगर्मी से तलाश जारी,लेकिन जौनपुर पुलिस की कार्य प्रणाली पर सवालिया निशान,जफराबाद थाना क्षेत्र का मामला।
    बता दें कि जफराबाद के मोहल्ल बंधवा निवासी दो सगे भाई गोलू, मोलू पुराने चोर हैं। कई बार इनको पुलिस ने चोरी के मामले में गिरफ्तार किया है। सोमवार को मोहल्ला रसूलाबाद निवासी अनिल प्रजापति की बाइक के साथ मोलू को मोहल्ले के कुछ लड़कों ने देखा। उनको मोलू पर शक हुआ। क्योंकि उक्त बाइक एक माह पूर्व अनिल प्रजापति ने सिरकोनी के एक व्यक्ति के हाथ बेच दिया था। संदिग्ध स्थिति में देखते हुए मोहल्ले के युवकों ने मोलू को बाइक के साथ पकड़ लिया तथा जफराबाद पुलिस को सुपुर्द कर दिया। मामले में जफराबाद की पुलिस ने दोनों से पूछताछ करना शुरू किया तो तो पता चला कि मामला सही है उक्त भाई सिरकोनी  से चोरी की गई थी। इसमें मोलू का भाई गोलू हुई सन लिप्त था। पुलिस ने गोलू को भी गिरफ्तार कर लिया। बीती रात मोलू जफराबाद थाना परिसर में पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। मोलू ने शौच करने का बहाना किया और शौच के बहाने ही थाना परिसर के पीछे के रास्ते से फरार हो गया। उसके फरार होने की सूचना पर पुलिस महकमे में अफरा-तफरी मच गई। मंगलवार  शाम तक  जफराबाद पुलिस मोनू की तलाश करने में जगह-जगह दबिश दे रही है  लेकिन अभी तक मोलू पकड़ा नहीं गया है। थानाध्यक्ष पर्व कुमार सिंह ने बताया कि  मामला सही है मोलू थाने से पुलिस कस्टडी से चकमा देकर फरार हो गया। इस संबंध में उसके खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर उसकी तलाश की जा रही है। तथा उसके भाई गोलू एवं राम आसरे निवासी समयपुर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। इनके पास से दो चोरी की मोटरसाइकिल भी बरामद किया गया है।