health

Breaking News

जौनपुर में भीड़ की तालिबानी सजा देखिये लाइव पिटाई का वीडियो 24UPNEWS.COM पर

एसडीएम,डीएसओ समेत 47 पर जालसाजी व गबन का वाद

राशन कार्ड में जालसाजी कर खाद्यान्न एवं रसद विभाग उत्तर प्रदेश से भारी मात्रा में खाद्यान्न घोटाला का आरोप
*डीएम के आदेश के बावजूद एसडीएम मछलीशहर ने नहीं किया जांच*
जौनपुर- सिकरारा थाना क्षेत्र के मलसिल गांव निवासी अधिवक्ता अजीत कुमार यादव की दरखास्त पर कोर्ट ने एसडीएम मछलीशहर, जिला पूर्ति अधिकारी व सेक्रेटरी समेत 47 आरोपितों पर धोखाधड़ी,जालसाजी व गबन का वाद दर्ज किया। अधिवक्ता का आरोप है कि आरोपितों ने जालसाजी कर  फर्जी ढंग से राशन कार्ड तैयार कराया और खाद्यान्न एवं रसद विभाग उत्तर प्रदेश से भारी मात्रा में खाद्यान्न का घोटाला व गबन किया।सूचना के अधिकार के तहत सूचना मांगने पर घोटाले का खुलासा हुआ।
दीवानी न्यायालय के अधिवक्ता व आरटीआई एक्टिविस्ट अजीत कुमार यादव ने कोर्ट में धारा 156(3)
के तहत दरखास्त दिया व 5 सितंबर 2015 से 9 जून 2016 का अभिलेख दाखिल किया।उनका आरोप है कि एसडीएम मछलीशहर, जिला पूर्ति अधिकारी,उप पूर्ति निरीक्षक मछली शहर, प्रमोद कुमार हल्का लेखपाल, सुनील कुमार तत्कालीन सेक्रेट्री,खंड विकास अधिकारी,तत्कालीन प्रधान राजपति, कोटेदार जवाहिरलाल ने गांव के लोगों से मिलीभगत कर उनके  फर्जी राशन कार्ड बनवाए जिसमें मकान नंबर 219,मकान नंबर 13,क्रम संख्या 53,मकान नंबर 142,मकान नंबर 14 शामिल हैं।आरोपितों ने गांव के राजेश,मजनू,धर्मेंद्र समेत 40 लोगों की मिलीभगत से शासनादेश के विरुद्ध धोखाधड़ी जालसाजी करते हुए राशन कार्ड तैयार कराकर खाद्यान्न एवं रसद विभाग उत्तर प्रदेश से भारी मात्रा में खाद्यान्न का प्रतिमाह घोटाला किया।सरकारी खाद्यान्न का दुरुपयोग कर फर्जी तरीके से जाति बदलकर और परिवार के सदस्यों की संख्या बढ़ाकर सरकारी नौकरी करने वालों के साजिश में आकर राशन कार्ड बनाकर सरकारी खाद्यान्न का गबन किया। जैसे क्रम संख्या 53 के राशन कार्ड धारक शकुंतला,माता धिराजी अनुसूचित जाति कुल सदस्य 6 का बनाया गया जबकि कार्ड धारी का लड़का आनंद कुमार सरकारी नौकरी करता है।थाने पर सूचना देने पर कार्यवाही नहीं हुई। जिलाधिकारी को 24 जून 2016 को प्रार्थना पत्र देने पर उन्होंने एसडीएम मछली शहर को जांच अधिकारी नामित किया लेकिन एसडीएम द्वारा जांच नहीं की गई।पुलिस अधीक्षक को रजिस्टर्ड आपसे दरखास्त दिया लेकिन आरोपितों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई तब वादी ने घोटाले का खुलासा व आरोपितों को दंडित करने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया।