health

Breaking News

पूविवि में स्वामी विवेकानंद की जयंती पर राष्ट्रीय युवा दिवस समारोह आयोजित ,बने चरित्रवान तब होगा देश महानः स्वामी रामदेव 24UPNEWS.COM पर

सीएम योगी के सपनो को पलीता लगा रहा जौनपुर बिजली विभाग के ठेकेदार,दर्जनों गांव का बजट पास कराकर डकार गए आवंटित धन

    दीपक सिंह की रिपोर्ट
    जौनपुर एक तरफ प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ बिजली विभाग 24 घंटे में ट्रांसफार्मर बदलने का वादा करते हैं और दूसरी तरफ बिजली विभाग है कि हम नहीं सुधरे की तर्ज पर कर रहा है काम , जनवरी 2018 में सिरकोनी विकास खंड के सुल्तानपुर ग्राम सभा में बिजनेस प्लान के तहत 63 केवीए का ट्रांसफॉर्मर  खंभा और तार आवंटन कर दिया गया लेकिन ठेकेदारों की मिलीभगत से स्टोर कीपर सुरेंद्र  कुमार द्वारा सभी सामान उपलब्ध कराने की बात कही तो उसके बाद ठेकेदार नगेंद्र सिंह द्वारा तार को अन्यत्र बेच लिया गया। ।अगर ठीकेदार के घर की जांच कराई जाए तो सैकड़ो मीटर तार बिजली विभाग के ठेकेदारों के घर पर मिल सकता है         
बता दें कि जनपद मुख्यालय से महज 4 किलोमीटर दूरी पर जौनपुर वाराणसी रोड पर सुल्तानपुर ग्राम सभा पड़ता है वह करीब 1 महीने में जनसभा वासी अंधेरे में रहने को मजबूर हैं सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए बजट के बावजूद विभागीय एसडीओ जेई और ठेकेदार और बिजली विभाग स्टोरकीपर की मिलीभगत से सभी सामानों को रास्ते में ही बेच दिया जाता है और बार-बार जानकारी के बाद स्टोरकीपर करते हैं शासन द्वारा तार की कमी ट्रांसफार्मर की कमी और खंभे की कमी बता कर जनता को गुमराह किया जाता है 8 महीने शहर क्षेत्र के एक्सईएन इस सहयोग के बाद ग्राम सभा के बाद जब ग्रामीणों ने जानकारी ली तो पता चला कि ग्राम सभा का तार ठेकेदार नगेंद्र सिंह द्वारा बेच दिया गया फिलहाल अभी तक ग्रामसभा सुल्तानपुर के ग्रामीण बिजली विभाग की उदासीनता के चलते अंधेरे में जीने को मजबूर है। यह ऐसा पहला गांव नहीं है जहां की 8 महीने में बजट पास होने के बाद काम नहीं हो पाया ऐसी दर्जनों गांव हैं इसकी सूची यूपी न्यूज़ के पास है जहां बजट पास कर दिया जाता है लेकिन एक्सईएन जेई , एसडीओ और ठेकेदार की मिलीभगत से पैसे का बंदरबांट कर लिया जाता है देखना यह है कि योगी सरकार जहां जीरो टॉलरेंस की बात करती है क्या बिजली विभाग पर यह नीति काम करेगी यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा फिलहाल बिजली विभाग की लापरवाही के कारण ऐसे दर्जनों का हैं जहां बिजली तो पास हो गई है बजट तो सरकार द्वारा दे दिया गया है लेकिन स्टोरकीपर , एसडीओ , जेई, ठेकेदार की मिलीभगत से सरकारी धन का बंदरबांट किया जा रहा है।