health

Breaking News

जौनपुर - बीजेपी के लिए जौनपुर से चुनाव का आगाज करना शुभ है-सतीश कुमार सिंह 24UPNEWS.COM पर

केन्द्र कि सत्ता में अगर वापस आये तो करेंगे GST में बदलाव : राहुल गाँधी


 नई दिल्ली-उत्तरी पूर्वी राज्यों त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड में अगले माह होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस का प्रचार अभियान आक्रामक होता जा रहा है। 27 फरवरी को होने वाले मेघालय विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जोर-शोर से प्रचार में जुट गए हैं। राहुल गांधी ने बुधवार को बीजेपी और आरएसएस पर जमकर हमला बोला। उन्होंने शिलांग में कहा कि अगर हम केंद्र की सत्ता में वापस आए तो जीएसटी की संरचना में बदलाव करेंगे, उसे और आसान बनाएंगे।राहुल गांधी ने कहा कि हम पूरे देश में आरएसएस की विचारधारा से लड़ रहे हैं। पूरे देश पर एक विशेष तरह की सोच थोपने का प्रयास किया जा रहा है। बीजेपी और आरएसएस पूरे भारत, खासतौर पर उत्तर-पूर्वी भारत में यही कर रही है। बीजेपी और आरएसएस आपकी संस्कृति, भाषा और जीवन के तरीके को कमजोर करने का प्रयास कर रही है।कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आरएसएस की विचारधारा महिलाओं को कमजोर करने वाली है। क्या किसी को पता है कि आरएसएस में कितनी महिलाएं नेतृत्व करती हैं? शून्य। यदि आप महात्मा गांधी की तस्वीरें देखते हैं तो आपको उनके आसपास महिलाएं दिखेंगी, लेकिन अगर आप मोहन भागवत की तस्वीरें देखते हैं, तो वह अकेले या पुरुषों से घिरे होंगे।राहुल ने कहा कि कांग्रेस में इस बात का संतुलन रखा गया है कि चुनाव में महिला और पुरुषों की संख्या में ज्यादा अंतर न आए। उन्होंने कहा कि वह मेघालय में महिलाओं को पार्टी में शामिल होने के लिए आमंत्रित करते हैं, जिससे हम ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को मौका दे सकें।त्रिपुरा की 60 विधानसभा सीटों पर 18 फरवरी को वोटिंग होगी और मेघायल में 27 फरवरी को मतदान होगा। मेघायल में भी विधानसभा की 60 सीटें हैं। दोनों राज्यों में 3 मार्च को मतगणना होगी।





आज 31जनवरी को लग रहा हैं चंद्रग्रहण


नई दिल्ली - माघ पूर्णिमा का दिन शास्त्रों के मुताबिक दान-पुण्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है। मान्यता है कि इस दिन अच्छे कर्म करने से सीधे मोक्ष का द्वारा खुलता है। लेकिन इस बार माघ पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण भी है।ग्रहण काल शाम को 5 बजकर 18 मिनट से शुरू हो रहा है। लेकिन, इसका सूतक चंद्रग्रहण शुरू होने के लगभग 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है। इस वजह ग्रहण का सूतक सुबह 8 बजकर 18 मिनट पर लग जाएगा।सूतक के बाद भगवान की प्रतिमा के दर्शन वर्जित हैं इसलिए सभी मंदिरों के पट  बंद हो जाएंगे।वैसे तो चंद्रग्रहण हर साल ही पड़ते हैं, लेकिन इस बार माघ पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण का लगना एक दिव्य संयोग बताया जा रहा है। इसलिए इस दिन स्नान और दान-पुण्य से कई गुना फल प्राप्त होगा।हालांकि यह दान-पुण्य का समय सूतक लगने से पहले ही था। लेकिन, शास्त्रों के मुताबिक ग्रहण के मौके पर दान करने के लिए सबसे उत्तम समय वह माना गया है जब ग्रहण का मोक्ष काल समाप्त हो जाता है। इसके  मुताबिक रात 8 बजकर 41 मिनट के बाद स्नान करके दान करना ज्यादा फलदायी होता है।नियम के मुताबिक ग्रहण से पूर्व और मोक्ष के बाद भी स्नान करना चाहिए।
यहां देखिए चंद्रग्रहण समय
स्पर्श का समय- शाम 5 बजकर 18 मिनट 27 सेकंड
खग्रास आरंभ- शाम 6 बजकर 21 मिनट 47 सेकंड
खग्रास समाप्त- शाम 7 बबजकर 37 मिनट 51 सेकंड 
मोक्ष काल- रात 8 बजकर 41 मिनट 11 सेकंड
बुरे प्रभाव से बचने के उपाय-
चंद्र  ग्रहण कर्क राशि में लग रहा है। इसलिए कुछ राशि पर इसके बुरे प्रभाव हो सकते हैं, इस दौरान 'ओम सोम सोमाय नमः' मंत्र का जाप कर सकते हैं। इसके अलावा महामृत्युंजय मंत्र, ईष्ट देवता और राशि का मंत्र का भी जाप कर सकते हैं। 



एक ही घर के 4 लोगो की गला रेतकर बेरहमी से कर दी हत्या


नई दिल्ली - प्रदेश के बांदा जिले में एक ही परिवार के चार लोगों की धारदार हथियार से गला काटकर हत्या की गई है। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।स्थानीय रिपोर्ट्स के मुताबिक जिले के बाहरी इलाके में स्थित छोटका कपुरवा में यह दिल दहला देने वाली वारदात हुई है।गांव के लोगों ने इस घर में चार लोगों की खून से सनी लाशें देखी तो तुरंत पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस मौके पर पहुंची और देखा कि घर के अंदर सभी तरफ खून के छींटे हैं और चार लाशें पड़ी हुई हैं।प्राथमिक जानकारी के अनुसार किसी धारदार हथियार से लोगों की हत्या की गई है। मरने वालों में पति-पत्नी और दो बच्चे शामिल हैं। परिवार में कुल 6 लोग थे जिसमें से 4 लोगों की हत्या की गई है।इस हमले में एक बेटा और बेटी बच गए हैं, पुलिस ने लाशों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।


कासगंज हिंसा: पर बोले सीएम योगी अराजकता फ़ैलाने वालो से सख्ती से निपटेंगे


नई दिल्ली- यूपी के कासगंज में 26 जनवरी को हुए सांप्रदायिक हिंसा में युवक चंदन की मौत पर आज सीएम योगी आदित्यनाथ ने चुप्पी तोड़ी।सीएम योगी ने कहा, 'राज्य सरकार हर नागरिक को सुरक्षा प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है और अराजकता फैलाने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा।'उन्होंने कहा, 'भ्रष्टाचार और अराजकता के लिए कोई जगह नहीं और ऐसे लोगों से सराकर सख्ती से निपटेगी।'दूसरी तरफ कासगंज में हालात अभी भी तनावपूर्ण बने हुए हैं। हिंसा की छिटपुट घटनाएं आज भी हुई। इलाके में कर्फ्यू तो हटा लिया गया है लेकिन बीती रात भी कुछ अज्ञात लोगों ने एक दुकान में आग लगा दी थी।पुलिस ने पूरे कासगंज को छावनी में तब्दील कर दिया है और हर आने जाने वाले पर नजर रख रही है।गौरतलब है कि गणतंत्र दिवस के दिन तिरंगा यात्रा के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प हो गई थी जिसके बाद गोली लगने से चंदन नाम के युवक की मौत हो गई थी। युवक की मौत के बाद पूरे इलाके में हिंसा शुरू हो गई और कई गाड़ियों और दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया था।

कासगंज हिंसा पर नाइक ने कहाँ ,यूपी के लिए कलंक हैं सरकार इसपर कड़ी से कड़ी कदम उठाए

  
नई दिल्ली-उत्तर प्रदेश के कासगंज में गणतंत्र दिवस के मौके पर हुई हिंसा पर राज्य के राज्यपाल राम नाईक ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए इसे कलंक करार दिया है।विश्व हिंदू परिषद और एबीवीपी की रैली पर हुई पत्थरबाजी और झड़प के बाद अब वहां पर धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हो रही है और तनाव कम हो रहा है।हिंसा में मृत चंदन की हत्या करने वाले मुख्य आरोपी शकील की पुलिस ने पहचान कर ली है। लेकिन फिलहाल वो पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। हालांकि पुलिस ने उसके घर पर छापेमारी भी की।छापेमारी के दौरान पुलिस को आरोपी के घर से देसी बम और पिस्टल जैसे खतरनाक हथियार मिले हैं। पुलिस ने अब तक इस मामले में 32 लोगों को गिरफ्तार किया है।उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने इस घटना को कलंक बताते हुए कहा है कि सरकार को कड़ी कार्रवाई करनी चाहिये ताकि इस तरह की घटना दोबारा न हो।उन्होंने कहा, 'जो कासगंज में घटना हुई है वो किसी को शोभा दायक नहीं है। वहां जो घटना हुई है वो यूपी के लिये कलंक के रूप में हुई है। सरकार उसकी जांच कर रही है। सरकार ऐसे कदम उठाए कि फिर से ऐसा न हो।'




कासगंज हिंसा: हत्या के आरोप में 32 लोगो को भेजा गया जेल ,इलाके में सभी इंटरनेट सेवाएं बंद

  
नई दिल्ली-उत्तर प्रदेश के कासगंज में शुक्रवार को गणतंत्र दिवस के मौके पर विश्व हिंदू परिषद और एबीवीपी की मोटर साइकिल रैली पर हुई पत्थरबाजी के बाद झड़प में 16 वर्षीय एक युवक की मौत हो गई थी।रैली के दौरान शुरू हुई हिंसा आज भी देखने को मिली। उप्रदवियों के कल दो बसों और कुछ गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया था। वहीं कल जैसा मंजर आज भी दोहराया गया।

मृतक चंदन का मुख्य आरोपी शकील अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। शकील की तलाशी में पुलिस ने आज आरोपी के घर की तलाशी ली। उसके घर से देसी बम और पिस्टल पुलिस ने बरामद किये है।इस दौरान पुलिस ने शकील के घर की तलाशी ली, जहां देसी बम और पिस्टल मिले। पुलिस ने आस-पास के लोगों से भी शकील के बारे में पूछताछ की।आईजी संजीव कुमार ने कहा, 'अब तक हत्या के आरोप में 32 लोगों को जेल भेजा गया है। इसके अलावा 51 लोगों को हिरासत में लिया गया है। स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। आज कोई घटना नहीं हुई, स्थिति पर नजर रखने के लिए पुलिस बलों को तैनात किया गया है।'दूसरी तरफ उप्रदवियों ने एक दुकान में आग लगा दी। कासगंज हिंसा मामले में पुलिस ने अबतक 49 लोगों को गिरफ्तार किया है। अभी भी वहां धारा 144 लागू है और दूसरे जिलों से सटे सीमा को सील कर दिया गया है।यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा, 'फ़िलहाल कासगंज में स्थिति काबू में है। पिछले कुछ घंटों में ऐसी कोई घटना सामने नहीं आई है।
पट्रोलिंग की जा रही है और काफी संख्या में लोगों को गिरफ्तार किया गया है।'पश्चिमी उत्तर प्रदेश में तनावपूर्ण इलाकों में  आज शाम 10 बजे तक इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है, ताकि सोशल मीडिया पर  किसी भी तरह की कोई अफवाह न फैल सके।प्रधान सचिव अरविंद कुमार ने कहा, 'दो मामले कल दर्ज किए गए थे। दो मामलों में नौ गिरफ्तारियां हुई है , 40 अतिरिक्त निवारक गिरफ्तार किए गए हैं।'उन्होंने कहा, 'पीएसी और 1 आरएएफ की पांच कंपनियां शुक्रवार को अतिरिक्त सिविल पुलिस अधिकारियों / पुलिसकर्मियों के साथ वहां पहुंच गईं थी। आरएएफ की एक और कंपनी आज वहां पहुंच गई है।गौरतलब है कि गणतंत्र दिवस पर समुदाय विशेष के लोगों ने एबीवीपी-विश्व हिंदू परिषद की तिरंगा यात्रा पर पथराव कर दिया था जिससे पूरे शहर में बवाल हो गया था। यात्रा पर जमकर फायरिंग और पथराव के साथ आगजनी की कोशिश की गई।इस दौरान गोली लगने से एक युवक चंदन गुप्ता की मौत हो गई जबकि दो घायल हो गए। चंदन की मौत के बाद कासगंज में हिंसा भड़क उठी थी। पथराव में आधा दर्जन चोटिल हैं, जिसमें कुछ पुलिस कर्मी भी शामिल हैं।कासगंज में तनाव वाले इलाके में जिला प्रशासन ने कर्फ्यू लगा दिया है। आगजनी, फायरिंग और पत्थरबाजी के दौरान एक युवक की मौत हो गई। मृतक की पहचान 16 वर्षीय चंदन के रूप में हुई है। दो लोगों को चोटें आई है। शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है।






कासगंज में स्थिति तनावपूर्ण दंगाइयों ने बसों और दुकानों में लगाई आग


नई दिल्ली -  उत्तर प्रदेश के कासगंज में शुक्रवार को गणतंत्र दिवस के मौके पर विश्व हिंदू परिषद और एबीवीपी की मोटर साइकिल रैली पर हुई पत्थरबाजी के बाद झड़प में 16 वर्षीय एक युवक की मौत हो गई।हिंसा के दौरान मारे गए युवक चंदन गुप्ता का शनिवार को कड़ी सुरक्षा के बीच अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस घटना के बाद से ही पूरे इलाके में भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है। वहां पर स्थिति अब भी तनावपूर्ण है।  बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इस घटना का संज्ञान लेते हुए दोनो समुदायों से शांति बनाए रखने की अपील की है। इसके साथ ही उन्होंने इस घटना में शामिल दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने का निर्देश दिया है।वहां पर स्थिति काफी तनावपूर्ण है। झड़प के दौरान दंगाइयों ने दुकानों और बसों में आग लगा दी।तनाव वाले इलाके में जिला प्रशासन ने कर्फ्यू लगा दिया है। जिला मजिस्ट्रेट आरपी सिंह ने कहा, 'आगजनी, फायरिंग और पत्थरबाजी के दौरान एक युवक की मौत हो गई। मृतक की पहचान 16 वर्षीय चंदन के रूप में हुई है। दो लोगों को चोटें आई है। शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है।'पुलिस के मुताबिक, दक्षिणपंथी समूह के युवकों ने मथुरा-बरैली पर अपने हाथ में तिरंगा लेकर एक बाइक रैली निकाली। इसी दौरान एक खास समुदाय के इलाके से गुजरते हुए इन पर कुछ छींटाकशी की गई। इसे लेकर कहा-सुनी के बाद उन पर पथराव किया गया, जिसमें एक की मौत हो गई।जिले के एक अधिकारी ने कहा कि गुस्साई भीड़ हिंसक हो गई और 12 से ज्यादा वाहनों व संपत्ति को नुकसान पहुंचाया।मुख्य सचिव  अरविंद कुमार ने कहा कि जिला प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है और भीड़ को तितर-बितर कर दिया गया। पुलिस की भारी मौजूदगी है और हालात तनावपूर्ण हैं। लोगों को एहतियात के तौर पर घरों में रहने के लिए कहा गया है|कासगंज शहर में उपद्रव के बाद धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस माहौल खराब करने वालों के खिलाफ धरपकड़ कर कोतवाली में बंद करने का अभियान भी चला रही है। कई लोगों को पकड़ कर बंद किया गया है|पुलिस ने कहा कि तीन स्कॉर्पियो एसयूवी, दो मैजिक परिवहन वाहन व एक ट्रक को भी भीड़ द्वारा मथुरा-बरेली राजमार्ग पर निशाना बनाया गया|अनियंत्रित भीड़ ने पेट्रोल पंप के निकट एक गुमटी में आग लगा दी। आग बुझाने के लिए दमकल की गाड़ियां वहां पहुंचीं। राज्य पुलिस मुख्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जिला मजिस्ट्रेट व पुलिस अधीक्षक तनावपूर्ण इलाके में मौजूद हैं और सुनिश्चित कर रहे हैं कि हिंसा और न फैले।




'पद्मावत' का विरोध रुकने का नाम नहीं ले रहा है,वाराणसी में आत्मदाह की कोशिश


 
 

 नई दिल्ली-फिल्म 'पद्मावत आज देश भर में रिलीज हो रही है लेकिन न्यायालय से हरी झंडी मिलने के बावजूद सूबे में फिल्म का व्यापक विरोध हो रहा है जिसे देखते हुए सिनोमाघरों में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए हैं।जानकारी के मुताबिक इलाहाबाद के पीवीआर पर पद्मावत विरोधियों ने जमकर बवाल काटा| यहां कल शाम पेड प्रिव्यू शो चला था। भारी पुलिस बंदोबस्त की वजह से विरोधी नारेबाजी करने के बाद लौट गए। वहीं कानपुर के किसी भी सिनेमा हाल ने फिल्म पद्मावत दिखाने की हिम्मत नहीं जुटाई। वहां के डीएम ने कहा कि सभी ने फिल्म दिखाने से इंकार कर दिया है। यदि कोई दिखाना चाहे तो सुरक्षा दी जाएगी। सभी माल्स और सिंगल स्क्रीन के सामने फोर्स लगाई गई है।उधर, कानपुर में एक फर्जी क्षत्रिय महासभा ने टीवी चैनल के सामने कहा कि जिस भी व्यक्ति ने दीपिका पादुकोण का नाक-कान काटने का ऐलान किया है उसे यह महासभा भी करोड़ों का इनाम देगी। कानपुर के असली क्षत्रिय महासभा ने इसका खंडन किया है।जानकारी के मुताबिक, आगरा में करणी सेना, राष्ट्रीय राजपूताना संगठन, छत्रिय सभा ने भूतेश्वर स्टेशन पर दिल्ली- आगरा पैसेंजर ट्रेन के आगे प्रदर्शन किया। इसतरह वाराणसी में पद्मावत की रिलीज के विरोध में आईपी मॉल सिगरा में आत्मदाह की कोशिश, पुलिस ने इस मामले में क्षत्रिय महासभा के कार्यकर्ता धर्मेंद्र सिंह को गिरफ्तार किया है|

ओपी सिंह ने डीजीपी का पद संभाला , कहाँ -नागरिको में सुरक्षा की भावना पैदा करना मेरी प्राथमिकता हैं।


  

नई दिल्ली-ओपी सिंह ने अपना कार्यभार उत्तर प्रदेश के नए डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस के तौर पर संभाल लिया है।ओपी सिंह ने कहाँ की मेरी सबसे बड़ी चुनौती राज्य में बेहतर कानून-व्यवस्था बनवाना  ,और कहाँ ,'की मेरे सामने अधिक  चुनौतियाँ हैं ,जिसमें से नागरिको में  सुऱक्षा की भावना पैदा करना उनकी सबसे बड़ी चुनौती होगी।उनकी  प्राथमिकता रहेगा, की वे लोगो को सुरक्षित महसूस कराये ।'  उन्होंने  कहाँ , मेरे लिये राज्य का डीजीपी बनना गर्व की बात है और उनकी कोशिश होगी कि राज्य की कानून व्यवस्था को दुरुस्त करे।'पद्मावत फिल्म को लेकर हो रहे विरोध प्रदर्शनों और करणी सेना की धमकियों से संबंधित पूछे गए एक सवाल के जबाव में उन्होंने कहा, 'हम स्थिति और रणनीति को देखते हुए सही समय पर उचित कार्रवाई करेंगे। जाहिर है सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हम सम्मान करेंगे।'  1983 बैच के आईपीएस अधिकारी मंगलवार की सुबह लखनऊ पहुंचे और अपना पद ग्रहण किया। वो 31 दिसंबर, 2017 को रिटायर हुए पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह की जगह लेंगे।डीजीपी के पीआरओ राहुल श्रीवास्तव ने कहा, 'नए डीजीपी ने अपना पद ग्रहण कर लिया है और जल्द ही वो मीडिया से बात करेंगे।'डीजीपी नियुक्त किये जाने से पहले ओपी सिंह सीआईएसएफ के प्रमुख के तौर पर दिल्ली में कार्यरत थे।सिंह को अपनी उत्कृष्ट सेवा के लिये वीरता पुरस्कार भी मिला है। वो सितंबर 2016 से सीआईएसएफ के प्रमुख नियुक्त किये गए।सीआईएसएफ के काम में कई तरह के नए और बड़े बदलाव का श्रेय उन्हें दिया जाता है। खासकर सीआईएसएफ के एयरपोर्ट पर काम करने के तरीके में उन्होंने काफी बदलाव किये हैं।

योगी सरकार पैदल चलने वालो पर भी लगा सकते हैं टैक्स : अखिलेश यादव -

  
नई दिल्ली-उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर  समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष ने  योगी सरकार पर हमला बोला है। साथ ही टोल टैक्स बढ़ाए जाने पर तंज करते हुए कहा कि योगी सरकार का वश चले तो पैदल चलने वालों पर भी टैक्स लगा दे।राज्य में बढ़ते अपराध और आए दिन हो रही रेप की घटनाओं पर अखिलेश यादव ने योगी सरकार को घेरा है। उन्होंने कहा, 'कई मौके पर मैंने कहा कि कानून व्यवस्था की स्थिति पर सरकार घिरी हुई है, आज अराजकता की स्थिति है प्रदेश में, लगातार संगीन घटनाएं हो रही है, जो बीहड़ में वारदातें होती थी वो अब राजधानी लखनऊ में हो रही है।'उन्होंने कहा, 'जो काकोरी शहीदों के नाम जाना जाता था वो अब डकैती के लिए सुर्खियों में है, कन्नौज और मथुरा में भी घटनाएं हुई है, इन हालात के लिए योगी सरकार जिम्मेदार है, ये डकैतियों का नया भारत बनाना चाह रहे है।'उन्होंने आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर टोल टैक्स बढ़ाने को लेकर भी योगी सरकार की आलोचना की। उन्होंने कहा, 'आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर बाइक-कार पर सबसे मंहगा टोल लगाने पर कहा कि सुना है कि अब जनेश्वर मिश्र पार्क में भी 10 रुपए का टिकट लगाने जा रहे है, इनका बस चले तो ये पैदल चलने वाले राहगीरों पर भी टैक्स लगा दें।'
प्रखर समाजवादी जनेश्वर मिश्र की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि देने आए थे। इस दौरान उन्हें याद करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि उन्हें छोटे लोहिया के तौर पर जाना जाता है। समाजवादी पार्टी उनकी विचारधारा और उनके दिखाए रास्ते पर चलती रहेगी।योगी सरकार ने सत्ता में आने के बाद कहा था कि अखिलेश यादव सरकार के दौरान लागू की गई परियोजनाओं की जांच कराई जाएगी। इस पर अखिलेश यादव ने कहा कि ये सिर्फ परेशान करने के लिये किया जा रहा है।उन्होंने कहा, 'इस सरकार ने पहले कहा एक्सप्रेसवे में घोटाला है, नदी में घोटाला है, ये सिर्फ परेशान करने के लिए आजम खां को एसआईटी जांच और पूछताछ की बात कह रहे हैं।'

कारोबारी के घर से 4.5 करोड़ रुपये, पुलिस ने दिया बरामद -

 
नई दिल्ली-उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक कारोबारी के घर से पुलिस ने करीब 4.5 करोड़ रुपये बरामद किए हैं। पुलिस को सूचना मिली थी कि व्यापारी सुपारी के व्यापार की आड़ में हवाला का कारोबार चला रहा था।सूचना मिलने के बाद पुलिस ने कार्रवाई की और छापेमारी कर सोफों के अंदर भरे रुपये को बरामद कर लिया। पुलिस ने बताया कि मुखबिर से पता चला कि हवाला कारोबार के जरिए भारी मात्रा में रकम नेपाल और बांग्लादेश भेजने की कोशिश की जा रही है।पुलिस ने शक के आधार पर वहां पड़े सोफे की चेकिंग शुरू की जिसमें नोटों की गड्डियां रखी मिलीं। ये गड्डियां 2000, 100 और 500 के नोटों की थीं। करीब 4.5 करोड़ रुपये बरामद होने के बाद पुलिस ने इनक्म टैक्स विभाग को सूचना दी।किदवई नगर के ब्लॉक में रहने वाले विवेक कुमार अग्रवाल की अग्रवाल ट्रेडर्स नाम की फर्म है। इस फर्म का ऑफिस नयागंज की किशन बिल्डिंग में है।वहीं कारोबारी विवेक ने इन्कम टैक्स विभाग को बताया कि ये रुपया उनका है और इसे बैंक में जमा करने के लिए रखा था। हालांकि जांच के दौरान उन्होंने डेढ़ करोड़ रुपये के कागजात ही दिखा सके।

महात्मा गाँधी हत्या मामला : सुप्रीम कोर्ट ने पूछा किस हैसियत से दोबारा जाँच की माँग कर रहे है -

नई दिल्ली- उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को महात्मा गांधी की हत्या के मामले में पुन: जांच की मांग करने वाला याचिकाकर्ता से पूछा कि, किस अधिकार से उन्होंने यह याचिका दायर की है। साथ ही मामले में हुई देरी के पहलुओं पर उनसे संतोषजनक तर्क देने को कहा। उच्चतम न्यायालय ने स्पष्ट किया कि, वह मामले में शामिल व्यक्ति की महत्ता को देखते हुए नहीं बल्कि कानून के मुताबिक काम करेगा।न्यायमूर्ति एस ए बोबडे और न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव की पीठ ने याचिकाकर्ता से कहा कि, उन्हें व्यक्ति की महानता को देखते हुए प्रभावित नहीं होना चाहिए। क्योंकि मुद्दा यह है कि इस मामले में कोई साक्ष्य उपलब्ध है या नहीं। पीठ ने कहा, "तुम्हें  कुछ बेहद जरूरी बिंदुओं पर जवाब देना होगा। इनमें से पहला है देरी। दूसरा  इनमें से पहला है देरी। दूसरा है अधिकार क्षेत्र और तीसरा यह तथ्य है कि, देरी होने के कारण घटना से जुड़े सभी प्रकार के साक्ष्य नष्ट हो चुके हैं।" साथ ही पीठ ने कहा कि, मामले से जुड़े ज्यादातर प्रत्यक्षदर्शियों की मौत हो चुकी है।न्यायालय मुंबई के एक शोधकर्ता और अभिनव भारत के न्यासी डॉक्टर पंकज फड़नीस द्वारा दायर की गई याचिका पर सुनवाई कर रहा था। पंकज ने मामले की जांच फिर से शुरू करने का अनुरोध करते हुए अपनी याचिका में दावा किया है कि, यह इतिहास की सबसे बड़ी लीपापोती में से एक है। वहीं, फडनीस ने वरिष्ठ अधिवक्ता अमरेंद्र शरण द्वारा दाखिल की गई रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देने के लिए वक्त मांगा है। शरण को इस मामले में सहयोग के लिए न्यायालय द्वारा न्यायमित्र नियुक्त किया गया है।शरण ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि, महात्मा गांधी की हत्या की पुन: जांच की कोई जरूरत नहीं है। क्योंकि हत्या के पीछे की साजिश और गोलियां चलाने वाले हमलावर नाथूराम विनायक गोडसे की पहचान पहले ही उजागर हो चुकी है। पीठ ने याचिकाकर्ता को न्यायमित्र की इस रिपोर्ट पर जवाब देने के लिए चार हफ्ते का वक्त दिया है। 




जज बीएच लोया से पोस्टमार्टम रिपोर्ट माँगी :सुप्रीम कोर्ट -

नई दिल्ली- सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार से सोहराबुद्दीन शेख एनकाउंटर केस की सुनवाई करने वाले सीबीआई के स्पेशल जज बीएच लोया की पोस्टमार्टम रिपोर्ट मांगी है। कोर्ट ने कहा कि यह मैटर बेहद सीरियस है। कोर्ट में दो पिटीशन लगाई गईं हैं, जिनमें इस केस की अलग से जांच कराने की मांग की गई है। इनमें से एक पिटीशन महाराष्ट्र के जर्नलिस्ट बीआर लोन ने और दूसरी कांग्रेस लीडर तहसीन पूनावाला ने दायर की है। कोर्ट इस मामले में अगली सुनवाई सोमवार को करेगा।लोया 1 दिसंबर 2014 को नागपुर में अपने कलीग की बेटी की शादी में जा रहे थे, तभी हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई थी। पिछले साल नवंबर में लोया की मौत के हालात पर उनकी बहन ने शक जाहिर किया। इसके तार सोहराबुद्दीन एनकाउंटर से जोड़े गए। इसके बाद यह केस मीडिया की सुर्खियां बना।





कलबुर्गी हत्याकांड :पत्नी ने की SC जाँच का माँग ,NIA ,CBI को नोटिस -

नई दिल्ली- सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को मशहूर लेखक और जाने-माने तर्कवादी डॉक्टर एमएम कलबुर्गी की पत्नी की याचिका पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा है। कलबुर्गी की पत्नी ने अपने पति की हत्या की जांच विशेष जांच  दल  से कराने की मांग करते हुए एक याचिका दाखिल की है। से कराने की मांग करते हुए एक याचिका दाखिल की है।
शीर्ष अदालत ने केंद्रीय जांच ब्यूरो , राष्ट्रीय जांच एजेंसी  और कर्नाटक, महाराष्ट्र व गोवा सरकार को भी नोटिस भेजा है।
चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस ए.एम. खानविलकर और जस्टिस डी.वाई.चंद्रचूड़ ने कलबुर्गी की पत्नी उमा देवी की कलबुर्गी, गोविंद पंसारे और नरेंद्र दोभालकर की हत्या की एक साथ जांच कराए जाने की मांग वाली याचिका के संबंध में केंद्र सरकार से जवाब मांगा है।
उमा देवी ने तीनों की हत्या समान परिस्थितियों में होने का हवाला देते हुए यह याचिका दाखिल की है। उमा देवी ने आरोप लगाया है कि कर्नाटक पुलिस की ओर से हत्या की जांच में कोई प्रगति नहीं हो रही है।
उमा देवी ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि हत्या की जांच के लिए गठित की जाने वाली एसआईटी की अध्यक्षता सर्वोच्च न्यायालय या उच्च न्यायालय को कोई सेवानिवृत न्यायधीश करे।
हम्पी विश्वविद्यालय के कुलपति रह चुके कलबुर्गी को 2006 में राष्ट्रीय साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उनकी 23 दिसंबर 2015 को कर्नाटक के धारवाड़ में उनके घर में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।
कलबुर्गी ने मूर्तिपूजा के विरोध में बयान दिया था। जिसके बाद कुछ दक्षिणपंथी संगठन ने विरोध प्रदर्शन किया था और उसके बाद उन्हें पुलिस सुरक्षा मुहैया कराई गई थी |
अंधविश्वास के खिलाफ आवाज उठाने वाले नरेंद्र दाभोलकर की 20 अगस्त 2013 को हत्या कर दी गई थी। वह एक भारतीय तर्कवादी और महाराष्ट्र के लेखक थे। उन्होंने महाराष्ट्र अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति  की स्थापना की थी। उन्हें मरणोपरांत 2014 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।
सीबीआई ने इस मामले में डॉ वीरेंद्र सिंह तावड़े को गिरफ्तार किया था। तावड़े साल 2001 में चिकित्सा का पेशा छोड़कर सनातन संस्था और हिन्दू जनजागृति समिति से जुड़ गए जो खुलेआम डॉ नरेंद्र दाभोलकर का विरोध करती थी।
वयोवृद्ध कम्युनिस्ट नेता और सामाजिक कार्यकर्ता गोविंद पनसारे की 16 फरवरी 2015 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गोलीबारी में उनकी पत्नी भी घायल हुई थी।
पुलिस ने बताया था कि विनय पवार और सारंग दिलीप अकोलकर ने 16 फरवरी, 2015 की सुबह शहर में पनसारे और उनकी पत्नी पर गोलियों की बौछार कर दी। पुलिस ने इस मामले में दक्षिण पंथी समूह सनातन संस्था के कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था।


जेएनयू सेफिर गायब हुआ एक छात्र मुकुल, पुलिस ने शुरू की जॉच पड़ताल -

 
नई दिल्ली-  दिल्ली का जवाहरलाल नेहरु युनिवर्सिटी  एक बार फिर छात्र के लापता होने को लेकर सुर्खियों में है। ताज़ा घटना के मुताबिक जेएनयू छात्र मुकुल जैन  छात्र पिछले दो दिनों से लापता है।
दिल्ली पुलिस ने फिलहाल इस मामले में रिपोर्ट दर्ज़ कर छानबीन शुरु कर दी है।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मुकुल जैन लाइफ साइंस से पीएचडी कर रहा है और गाज़ियाबाद का रहने वाला है।
इससे पहले अक्टूबर 206 में नजीब अहमद नाम का एक छात्र भी लापता हो गया था। इस मामले में अब तक छात्र का पता नहीं चल पाया है।
उल्लेखनीय है कि जेएनयू परिसर में अपने हॉस्टल में अखिल विद्यार्थी परिषद  के समर्थकों द्वारा कथित तौर पर पिटाई किए जाने के बाद से अहमद वर्ष 14-15 अक्टूबर 2016 की रात से लापता है।
सीबीआई ने इस मामले को अपने हाथ में लेने के बाद अहमद का पता बताने के लिए 10 लाख रुपये इनाम घोषित किया था।

विधायक मुख्तार अंसारी को जेल में पड़ा दिल का दौरा , पत्नी को हार्ट अटैक-

नई दिल्ली:- 
पूर्वी उत्तर प्रदेश के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को जेल में दिल का दौरा पड़ने के बाद उन्हें गंभीर अवस्था में अस्पताल पहुंचाया गया है।

मुख्तार अंसारी की पत्नी उन्हें देखने आई थीं और उन्हें भी हार्ट अटैक आ गया। जेल प्रशासन आक्सीजन लगाकर दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया।

हार्ट अटैक आने के बाद उनके बैरक से दूसरे बंदियों को अलग कर दिया गया।

मुख्तार अंसारी इस समय बांदा जेल में बंद हैं। मंगलवार की सुबह उनकी पत्नी उनसे मिलने जेल आईं थी और उसी समय दोनों को हार्ट अटैक आया।

खबर मिलते ही अस्पताल में उनके समर्थकों का जमावड़ा लग गया। आला अधिकारी भी अस्पताल पहुंच गए हैं।

डॉक्टरों ने दोनों को लखनऊ रेफर किया है और उन्हें ले जाने की तैयारी शुरू हो गई है।

जुर्म है समलैंगिता या नहीं ?फिर कराई विचार अपने ही फैसले पर ,सुप्रीम -

नई दिल्ली-समलैंगिकता जुर्म है या नहीं? इस पर सुप्रीम कोर्ट फिर से विचार करेगा। 2013 के अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिकता  को जुर्म करार दिया था। सुप्रीम कोर्टअपने पुराने फैसले पर फिर विचार करने जा रहा है। मामला समलैंगिकता को जुर्म के दायरे में रखने या नहीं रखने का है। कोर्ट ने इस मामले में दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले को बदलते हुए बालिग समलैंगिकों के संबंध को गैरकानूनी करार दिया था। सुप्रीम कोर्ट की 3 जजों की बेंच ने सोमवार को कहा कि संवैधानिक पीठ आईपीसी की धारा 377 के तहत समलैंगिकता को जुर्म मानने के इस फैसले पर फिर से विचार करेगा।




समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी में रखने के पहले से हिमायती रहे बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि यदि कोई भी काम निजता के तहत होता है तो उनकी गोपनियता बरकरार रखी जाए लेकिन यदि आप इसका सार्वजनिक तौर पर प्रदर्शन करते हैं तो फिर इसके लिए उन्हें दंडित किया जाना चाहिए और जिसके लिए धारा 377 का होना आवश्यक है।

कांग्रेस ने इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला सराहनीय है। हर व्यक्ति को अपनी तरह से जिंदगी जीने का पूरा अधिकार है। आल इंडिया वुमेन कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव ने कहा कि 377 को अपराधमानने वाले नियम की समीक्षा होने का फैसले का हम स्वागत करते हैं।

एलजीबीटी कार्यकर्ता अक्काई ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर खुशी जताई है। उन्होंने कहा है कि, 'हमें इसका स्वागत करना चाहिए। भारतीय न्याय व्यवस्था पर हमारा अब भी यकीन है। हम 21वीं सदी में रहते हैं। सभी राजनीतिक पार्टियों को चुप्पी तोड़नी चाहिए और लोगों के व्यक्तिगत यौन पसंद का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने सभी राजनीतिक पार्टियों से इस मुददे पर अपना पक्ष रखने की भी अपील की है।

हाईकोर्ट जाएगी RJD,माली का काम करेंगे जेल में लालू यादव , आंदोलन करेगी LP-

नई दिल्ली: - 
चारा घोटाला मामले में दोषी बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल  प्रमुख लालू प्रसाद यादव को रांची की सीबीआई अदालत ने साढ़े तीन साल जेल और पांच लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है। वह फिलहाल रांची के बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं।
पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू को आज अन्य 15 दोषियों के साथ हजारीबाग स्थित ओपन जेल शिफ्ट किया जाएगा। जहां वह माली का काम करेंगे। इसके एवज में जेल प्रशासन उन्हें रोजना 93 रुपये मेहनताना देगा।
घोटाला मामले में लालू को दोषी ठहराए जाने बाद इसे भारतीय जनता पार्टी  की साजिश बता चुकी राष्ट्रीय जनता दल अब रांची की सीबीआई अदालत के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी।
लालू यादव के बड़े बेटे और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने कहा, 'हमलोग अदालत के फैसले का सम्मान करते हैं। जमानत के लिए हाईकोर्ट में अपील करेंगे। हमें न्यायपालिका पर पूरा यकीन है।'
उन्होंने कहा, 'जिस तरह जेपी आंदोलन के दौरान लालू जेल गए, ठीक उसी तरह अब बिहार में एलपी  आंदोलन शुरू होगा। राजद का संघर्ष जारी रहेगा। हम डरनेवाले नहीं हैं।'

 बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, 'बीजेपी की राह में चलने के बजाए मैं सामाजिक न्याय, सद्भाव और समानता के लिए खुशी से मरना पसंद करूंगा।
बिहार के उपमुख्यमंत्री और चारा घोटाला मामले में याचिकाकर्ताओं में से एक सुशील कुमार मोदी ने सीबीआई कोर्ट के फैसले पर खुशी जताई है।
उन्होंने कहा, 'सजा सजा होती है, चाहे वह साढ़े तीन साल की हो या सात साल की। इस मामले में मैंने, शिवानंद तिवारी और ललन सिंह ने जो पुख्ता प्रमाण के साथ आरोप लगाए थे, आज अदालत ने सजा सुनाकर उस पर मुहर लगा दी है।'
बीजेपी से दोस्ती कर आरजेडी को सत्ता से बेदखल करने वाली पार्टी जद  के वरिष्ठ महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि यह फैसला राजनीति में भ्रष्टाचारियों के लिए एक सबक है। उन्होंने कहा, 'हम इस फैसले का स्वागत करते हैं। यह बिहार की राजनीति में ऐतिहासिक फैसला साबित होगा। यह एक अध्याय का अंत है।'

-

B.S.F. वालो ने पकिस्तान को दिया करारा जवाब -

नई दिल्ली:-  
सीमा सुरक्षा  ने गुरुवार को पाकिस्तान की नापाक हरकतों पर बड़ी कार्रवाई करते हुए कई पोस्ट ध्वस्त कर दिये।
खबर है कि बीएसएफ ने इंटरनेशनल बॉर्डर  पर कार्रवाई करते हुए 10 रेंजर्स को मार गिराए। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।
बीएसएफ के प्रवक्ता के मुताबिक, 'बीएसफ जवानों ने बुधवार को दो पाकिस्तानी मोर्टार की पोजिशंस का पता लगाया, उन्हें निशाना बनाया और नष्ट कर दिया।'
जम्मू के आईजी  बीएसएफ रामा अवतार सिंह ने कहा, 'बीएसएफ ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है। पाकिस्तान की पोस्ट में उनके कई हथियार और उपकरण डैमेज हुए हैं।'
उन्होंने कहा, 'पाकिस्तान के कई रेंजर्स मारे गए हैं लेकिन उनके नंबर के बारे में अभी नहीं बताया जा सकता।'
गुरुवार सुबह हुए घुसपैठ की कोशिश पर उन्होंने कहा, 'हमारे पास इनपुट्स हैं कि पाकिस्तान कोहरे की आड़ लेकर घुसपैठ करवाना चाहता है लेकिन बीएसएफ लगातार अलर्ट है और आज सुबह ही एक घुसपैठिये को मार गिराया गया। जो पाकिस्तान के सियालकोट का रहने वाला है।'
आपको बता दें कि पाकिस्तानी रेंजर्स ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन करते हुए भारी गोलीबारी की थी।