health

Breaking News

जौनपुर में भीड़ की तालिबानी सजा देखिये लाइव पिटाई का वीडियो 24UPNEWS.COM पर

स्वामी जी के विचारों को आत्मसात करें विद्यार्थी-डॉ मनोज

पीयू में मनायी गयी स्वामी विवेकानन्द जयंती
जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वावधान में   स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर रविवार को  राष्ट्रीय युवा दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर स्वामी जी के व्यक्तित्व एवं विचारों पर केन्द्रित   संवाद विद्यार्थियों से स्थापित  किया गया।
आयोजित संवाद  में बतौर मुख्य अतिथि अनुप्रयुक्त सामाजिक विज्ञान एवं मानविकी संकाय के अध्यक्ष डॉ मनोज मिश्र ने कहा कि स्वामी जी ने सबसे पहले विश्व बंधुत्व, हिन्दू धर्म की विराटता    तथा भारतीय संकृति के विराट सार्वभौमिक  स्वरुप   से   सम्पूर्ण विश्व को परिचित कराया।  उन्होंने कहा कि स्वामी जी के  विचार  विश्व में स्थाई शांति  की  दिशा में सार्थक प्रयास साबित हो सकते हैं। उनके विचारों को आत्मसात करने वाला कोई भी व्यक्ति  कभी भी अनैतिक और राष्ट्रविरोधी कृत्य नही कर सकता। आज   विद्यार्थियों को स्वामी जी विचारों को आत्मसात करने की जरूरत है।  उन्होंने  कहा कि विवेकानन्द जी का सम्पूर्ण व्यक्तित्व युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत है। उन्होंने विद्यार्थियों से स्वामी जी के विचार को साझा करते हुए कहा कि जब तक जीना है तब तक सीखते जाना है,यही अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक है।
इस अवसर पर एनएसएस के कार्यक्रम  अधिकारी डॉ० विनय वर्मा ने कहा कि   स्वामी  विवेकानंद जी के विचार हम सभी   स्वयंसेवक एवं स्वयंसेविकाओं के लिए आधार  वाक्य  है। उन्होंने उपस्थित स्वयंसेवकों से कहा कि स्वामी  जी ने कहा था   कि जो लोग तुम पर भरोसा करते हैं उन्हें कभी भी धोखा न दो। .
कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के शिक्षक डॉ  आलोक  दास, डॉ सुधीर उपाध्याय, जया शुक्ला ,प्रीती शर्मा, सत्यम उपाध्याय सहित विद्यार्थी उपस्थित रहे। सञ्चालन शील निधि सिंह ने  एवं धन्यवाद ज्ञापन विभागाध्यक्ष डॉ रजनीश भास्कर   द्वारा किया गया। 

राज भवन में राज्यपाल से सम्मानित किये गये पूविवि के खिलाड़ी

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर, राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय फैजाबाद एवं  महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी के संयुक्त तत्वावधान में राजभवन लखनऊ के गांधी सभागार में राष्ट्रीय खेल दिवस पर खिलाड़ी सम्मान समारोह का आयोजन हुआ। समारोह में कुलाधिपति एवं राज्यपाल उत्तर प्रदेश आनन्दीबेन पटेल ने पूविवि के 104 खिलाड़ियों को स्वर्ण, रजत एवं कांस्य पदक से सम्मानित किया। साथ ही 31 टीम प्रशिक्षक व टीम प्रबंधक को सम्मानित किया गया। पूविवि के खिलाड़ियों को इस बार 6वीं बार राजभवन में सम्मानित किया गया। इस मौके पर प्रदेश के राज्यपाल एवं विवि के कुलाधिपति आनन्दीबेन पटेल ने कहा कि अगर हम शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ रहेंगे तभी भारत विश्व गुरू बनेगा। इसी क्रम में पूविवि के कुलपति प्रो. डा. राजाराम यादव ने कहा कि खिलाड़ी युवाओं का प्रेरणा स्तम्भ होता है। जिन्दगी बदलने के लिये सहर्ष संघर्ष करना पड़ता है। वक्त आपका है। चाहो तो सोना बना लो और चाहो तो सोने में गुजार दो। अगर कुछ अलग करना है तो भीड़ से हटकर चलो। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष पूविवि के खिलाड़ियों ने 41 पदक हासिल किया थे जो इस बार संख्या 104 हो गयी है। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी के कुलपति प्रो. टीएन सिंह ने खिलाड़ी सम्मान समारोह की प्रस्तावना प्रस्तुत किया तो राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय फैजाबाद के कुलपति प्रो. मनोज दीक्षित ने आभार व्यक्त किया। वहीं खेल सचिव डा. आलोक सिंह ने खेल गतिविधियों की वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत किया तो विद्यार्थियों ने राष्ट्रगान किया। समारोह का संचालन जनसंचार विभागाध्यक्ष डा. मनोज मिश्र ने किया। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव कुलाधिपति हेमंत राव, कुलसचिव सुजीत जायसवाल, डा. वीरेन्द्र विक्रम यादव, वित्त अधिकारी एमके सिंह, परीक्षा नियंत्रक वीएन सिंह, प्रो. बीबी तिवारी, डा. राजीव प्रकाश सिंह, डा. समर बहादुर सिंह, डा. विजय सिंह, डा. विजय तिवारी, डा. मनराज यादव, डा. जगदेव, राकेश यादव,  डा. केएस तोमर, डा. दिग्विजय सिंह राठौर, डा. सुनील कुमार, डा. पुनीत धवन, डा. गिरिधर मिश्र सहित तमाम लोग शामिल रहे।